अंबिकापुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।शहर के नजदीक स्वच्छंद विचरण कर रहे जंगली हाथी ने बुधवार की रात वन विभाग के फायर वाचर को कुचल कर मार डाला।एक सप्ताह के भीतर हाथी के हमले से दूसरे व्यक्ति की मौत हुई है।हाथी अभी भी बधियाचुआ के पास ही विचरण कर रहा है।वन विभाग द्वारा जंगली हाथी को सुरक्षित तरीके से खदेड़ने ठोस प्रबंध नहीं किए जाने से प्रभावित क्षेत्र के लोगों में नाराजगी है।

पिछले 19 जनवरी को जंगली हाथी अंबिकापुर शहर के बाहरी क्षेत्र से होते हुए खैरवार ग्राम पंचायत के बाकी डैम के आस पास पहुंचा था। जंगली हाथी अभी भी इसी क्षेत्र में विचरण कर रहा है। बुधवार की रात हाथी ने वन विभाग के फायर वाचर पर हमला कर दिया। गंभीर रूप से घायल फायर वाचर को तत्काल अस्पताल ले जाया गया लेकिन जांच के बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि वन विभाग द्वारा असुरक्षित तरीके से हाथी के उपचार के लिए व्यवस्था बनाई जा रही थी।हाथी को बीमार बताया जा रहा है।दो-तीन दिनों से उसका ज्यादा मूवमेंट नहीं होने के कारण विभागीय कर्मचारियों द्वारा उसके व्यवहार का अध्ययन किया जा रहा था। यह बात निकलकर सामने आई कि जंगली हाथी बीमार हो गया है।

लगातार बीमार रहने के कारण कमजोरी से ज्यादा मूवमेंट नहीं हो पाने को कारण मानते हुए वन विभाग द्वारा उपचार के नाम पर व्यवस्था बनाने कोशिश की जा रही थी।बिना किसी ठोस रणनीति के उपचार के प्रयास में फायर वाचर भी लगा हुआ था। अचानक हाथी से सामना हो गया, इसके पहले की फायर वाचर मौके से भाग पाता हाथी ने उस पर हमला कर दिया और बड़ी तेजी से आगे बढ़ गया। हाथी के जाने के बाद घायल को अस्पताल ले जाया गया,जहां उसकी मौत हो गई।एक सप्ताह के भीतर हाथी के हमले से मौत की दूसरी घटना है। जंगली हाथी अभी भी शहर से लगे ग्राम पंचायत खैरबार,बधियाचुआ क्षेत्र में ही विचरण कर रहा है। जनहानि की दो घटनाएं होने से ग्रामीण भी भयभीत हैं। सुरक्षित तरीके से हाथी को शहर से दूर खदेड़ने की मांग भी शुरू हो गई है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close