बतौली (नईदुनिया न्यूज)। बतौली क्षेत्र के भटको पंचायत अंतर्गत लगरूपारा जाने वाले रास्ते को गांव के उत्साही युवाओं के साथ पंचायत पदाधिकारियों ने फिलहाल बंद कर दिया है। पेड़ की डंगालियों से रास्ता बंद किया गया है। आने-जाने वालों पर लगातार निगरानी रखी जा रही है। बाहरी लोगों के अंदर प्रवेश की मनाही कर दी गई है। बाहर जाने वालों को अत्यंत आवश्यक कार्य होने पर ही जाने की अनुमति दी जा रही है।

बतौली क्षेत्र के भटको पंचायत का गांव लगरूपारा इस समय आइसोलेटेड गांव प्रदर्शित हो रहा है। गांव के युवाओं ने पंचायत पदाधिकारियों के साथ मिलकर स्वयं को ही आइसोलेटेड कर दिया है। ग्रामीणों का कहना है कि लगातार बाहरी लोगों की आवाजाही बनी हुई है। गांव के लोग भी बेवजह बाहर जाते हैं। इससे संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ रहा है। बाहरी लोग गांव में विचरण करते हैं। इस प्रक्रिया पर लगाम लगाने के लिए यह कार्रवाई की गई है। किसी पर भी दबाव की स्थिति नहीं है। बावजूद इसके सभी का ख्याल रखते हुए रास्ते को अवरुद्ध कर दिया गया है। गांव वालों ने यह भी बताया कि आसपास के गांव के लोग राष्ट्रीय राजमार्ग में आवाजाही पर निरीक्षण होने पर इसी गांव से होकर चिरंगा, पहाड़ चिरंगा होते हुए कालीपुर, नवानगर तक जाते हैं और अंबिकापुर का रास्ता अख्तियार करते हैं। इस मार्ग को अवरुद्ध करने से इस प्रक्रिया पर भी लगाम लगेगी। रास्ता रोके जाने के दौरान उपसरपंच शशांक गुप्ता, रामकृपाल, बबलू यादव, संजय, राजेश, जितेंद्र यादव, पन्ने, दानबहादुर उपस्थित थे।

दी जा रही ग्रामीणों को समझाइश

बतौली के ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी लोग लापरवाहीवश गन्ना कटाई का कार्य कर रहे हैं। इसके अलावा समूह में खेती-बाड़ी का भी कार्य कर रहे हैं। हालांकि ग्रामीणों की यह दलील है कि इस समय गन्ना कटाई ना करने से काफी नुकसान हो सकता है। लगातार ऐसे लोगों को समझाइश दी जा रही है। लगरूपारा के युवा आने जाने वालों को समझाइश दे रहे हैं कि अत्यंत आवश्यक कार्य होने पर ही एक से डेढ़ मीटर की दूरी बनाते हुए आवाजाही करें।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket