अंबिकापुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। बलरामपुर जिले के वाड्रफनगर क्षेत्र में युवक की मौत के बाद इंटरनेट मीडिया पर सार्वजनिक रूप से उसकी पिटाई का वीडियो प्रसारित हो रहा है। वीडियो की सत्यता जांचने के निर्देश जारी किए गए है। युवक मानसिक रूप से अस्वस्थ था और उसे कई प्रकार की बीमारी भी थी। मौत के बाद उसका पोस्टमार्टम भी नहीं हुआ है इसलिए मौत के कारण का स्पष्ट पता नहीं चल सका है।

बलरामपुर जिले के वाड्रफनगर क्षेत्र में बुधवार को इंटरनेट मीडिया पर तेजी से वीडियो प्रसारित हुआ। वीडियो ग्राम शंकरपुर निवासी एक व्यक्ति की बताई जा रही है।तीन दिन पहले उसकी मौत हो गई है।मौत के बाद प्रसारित वीडियो में स्पष्ट नजर आ रहा है कि युवक हाथ मे एक थैला लिए आगे-आगे जा रहा है और उसके पीछे डंडा पकड़े कुछ युवक उसकी पिटाई करते हुए आगे बढ़ रहे है।ग्रामीणों का दावा है कि वीडियो शंकरपुर निवासी भुलई सिंह 35 वर्ष का है। लगभग एक माह पहले वह अपनी बहन के घर जाने के लिए निकला था। उसकी बहन बृहस्पतिपुर में रहती है। बृहस्पतिपुर पुर तक बस नहीं जाती, इसलिए बस से वह रामनगर तक गया था। मानसिक रूप से वह थोड़ा कमजोर भी था।

बस से उतरने के बाद नजदीक के टमाटर के खेतों में घुसकर उसने कुछ टमाटर तोड़ लिए थे। इसी से नाराज होकर युवकों ने उसे पकड़ लिया था।क्षेत्र में उस दौरान बच्चा चोरी करने की अफवाह उड़ी हुई थी।टमाटर तोड़ने से नाराज लोगों द्वारा व्यक्ति के हुलिया को लेकर भी संभवत अफवाह उड़ा दी गई थी जिससे उसकी पिटाई कर दी गई थी। बाद में उसे वाड्रफनगर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। स्वजन उपचार के बाद उसे घर ले गए थे। इस बीच तबीयत ज्यादा खराब होने पर उसे अंबिकापुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था। सोमवार को मौत के बाद यह वीडियो तेजी से प्रसारित हो रहा है। वीडियो में मारपीट करने वाले स्पष्ट नजर आ रहे हैं। वाड्रफनगर एसडीओपी अभिषेक झा ने बताया कि वीडियो प्रसारित होने के बाद उन्होंने बसंतपुर थाना प्रभारी को लिखित में पत्र लिखकर वीडियो की जांच करने का आदेश दिया है।

वीडियो की सच्चाई जाननी जरूरी है। उन्होंने बताया कि वीडियो की जांच के बाद जो तथ्य आएंगे उसके बाद अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने स्पष्ट किया कि बगैर सत्यता जाने किसी भी प्रकार का आकलन करना उचित नहीं है। वीडियो कई माध्यम से प्रसारित होते हैं इसलिए उसकी बारीकी से जांच करने कहा गया है।इधर खबर है कि युवक को अंबिकापुर अस्पताल में भर्ती करने के दौरान मारपीट का उल्लेख नहीं किया गया था। बीमारी के कारण उसे भर्ती किया गया था। निमोनिया फेफड़े में परेशानी पर उसका इलाज किया जा रहा था। बीमारी से मौत के कारण उसका पोस्टमार्टम भी नहीं किया गया है। वाड्रफनगर एसडीओपी अभिषेक झा का कहना है कि स्वजन की ओर से किसी प्रकार की कोई लिखित शिकायत भी सामने नहीं आई है फिर भी पुलिस ने वीडियो को स्वत: संज्ञान में लिया है।

पीठ में चोट के निशान का भी वीडियो

इंटरनेट मीडिया पर युवक की डंडे से पिटाई के अलावा शरीर में आई चोट के निशान के भी वीडियो प्रसारित हो रहे हैं इसमें गांव के लोगों की आवाज भी सुनाई दे रही है। यह वीडियो भी युवक की मौत के बाद की ही बताई जा रही है। खबर है कि युवक की पिटाई के बाद पुलिस से शिकायत की गई थी।उस दौरान मारपीट करने वालों ने उसका उपचार कराने आश्वस्त किया था लेकिन अंबिकापुर में युवक के भर्ती होने के बाद आर्थिक रूप से मदद नहीं की गई।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close