बालोद। नईदुनिया न्यूज

जिला मुख्यालय बालोद से 18 किलोमीटर दूर ग्राम पसौद के इमलीपारा स्थित गांधी चौक सरस्वती मंदिर प्रांगण में गुरुवार से चल रहे त्रिदिवसीय सत्संग समारोह का समापन शनिवार को हुआ। सत्संग के आखिरी दिन जिला बलौदाबाजार के ग्राम मोपर से पहुंचे महंत बिसेसर दास मानिकपुरी का प्रवचन सुनने श्रद्घालुओं की भीड़ उमड़ी। छोटे-छोटे बधाों के अलावा युवा, बुजुर्ग व महिलाएं काफी संख्या में उपस्थित हुए। तीसरे यानि प्रवचन के आखिरी दिन कथा वाचक महंत बिसेसर दास मानिकपुरी ने शरीर के सभी अंगों के महत्त्व को जीवांत में वे मरणोपरांत बाद कि क्या भूमिका रहती है उनके बारे में समझाया। महंत मानिकपुरी ने कहा कि कोई भी इंसान इस जीवन मे पूरी तरह से खुश नहीं है। सबके पास कोई न कोई समस्या रहती है। और यह समस्या जीवन भर रहेगी। मानव जीवन में लोग कभी भी संतुष्ट नहीं होते। इंसान कितनों भी अच्छा कर्म कर ले, लेकिन परेशानी इंसान का साथ नहीं छोड़ती। फिर भी इंसान को हमेशा खुश रहना चाहिए। महंत बिसेसर दास ने कहा कि हर गांव में हर साल कोई न कोई संतए ज्ञानी, महात्मा का प्रवचन होना चाहिए। इससे गांव, समाज व लोगों के मन में भी शांति आती है। सभी लोगों को समय निकालकर प्रवचन सुनना चाहिए।