दल्लीराजहरा। नईदुनिया न्यूज

नर्राटोला से चिखली जाने वाला मार्ग पूरी तरह जर्जर हो गया है। इस मार्ग को बने लगभग 35 वर्ष हो गया है। इस को सुधारने के लिए शासन-प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। इस मार्ग पर ग्रामीणों, शिक्षकों और स्कूल जाने वाले विद्यार्थियों का आना-जाना होता है।

नर्राटोला के ग्रामीण नकुल, सोमराज, सतीश, टोमन लाल बघेल, घनश्याम और रफीक खान ने बताया कि इस मार्ग पर जगह-जगह बड़े गड्ढे हो गए हैं। इन गड्ढों में संबंधित विभाग केवल मुरुम की जगह मिट्टी डालकर महज खानापूर्ति कर देता है। ग्रामीण यांत्रिकी विभाग की लापरवाही के चलते स्कूली बधो आये दिन दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। बारिश का मौसम आते ही इस सड़क पर राहगीरों का चलना दूभर हो जाता है। बता दें कि इस मार्ग को बनाते समय पानी निकलने के लिए नाली का निर्माण नहीं किया गया है। जिससे बारिश का पानी मार्ग में ही इकट्टा हो जाता है। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि इस मार्ग के निर्माण के लिए कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है। इस क्षेत्र में आने वाले जनप्रतिनिधियों द्वारा केवल आश्वासन के अलावा लोगों को कुछ हासिल नहीं है। उनके गांव की मूलभूत सुविधाओं के बारे में कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है जिससे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है।