दल्लीराजहरा। नईदुनिया न्यूज

गत दिनों हितकसा डैम से निकलने वाले लाल पानी के संबंध में नईदुनिया ने प्रमुखता से समाचार प्रकाशन किया था। जिसके बाद बीएसपी प्रबंधन में दिल्ली से लेकर दल्ली तक हड़कंप मच गया था और हितकसा के लाल पानी के उपयोग को लेकर मैराथन बैठक कर समस्या का हल निकाला गया।

बीएसपी प्रबंधन के आलाधिकारियों ने पिछले दिनों भिलाई कार्यालय में हल निकाला। अब बीएसपी के अनुसार हितकसा डैम से खेतों को नुकसान नहीं होगा और हितकसा की लाल मिट्टी का उपयोग बीएसपी प्रबंधन अपने इस्तेमाल में करेगा। हितकसा डैम से निकले लाल पानी से आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के पर्यावरण दुष्प्रभाव पड़ रहा था। वहीं लाल मिट्टी से कब्जे को नुकसान हो रहा था। खेत बंजर होने से किसान को काफी फसलों का नुकसान हो रहा था। सभी दिक्कतों को देखते हुए बीएसपी ने अब हितकसा डैम में स्लाइम बेनेफिसिएशन इकाई प्रारंभ कर दिया है। जिसके चलते किसानों को भी लाल मिट्टी से छुटकारा मिलेगा। वहीं बीएसपी को कधाा माल सस्ते में मिलेगा।

गौरतलब है कि दल्ली माइंस के समीप हितकसा डैम में बीते 40 दशक से जमें आयरन ओर फाइंस के चलते पर्यावरण का भी काफी नुकसान हो रहा था। लाल मिट्टी डैम का पानी खेतों में जाने के लिए हितकसा, बिटाल और अन्य ग्रामीण शासन प्रशासन के खिलाफ काफी आक्रोशित थे। इसके बाद बीएसपी द्वारा हितकसा में बड़े पैमाने पर फाइंस के भंडार से पैलेट बनाने की घोषणा बीते 15 वर्षों से किया जा रहा था लेकिन ग्रामीणों के आंदोलन हड़ताल की वजह से यहां कभी भी पैलेट प्लांट नहीं बन सका। जिसके वजह से डैम के आसपास ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों की जमीन लगातार बंजर हो रही थी। वहीं किसान ग्रामीण लाल पानी पीने को मजबूर थे। इस मुद्दे को लेकर विभिन्ना माध्यमों से शासन प्रशासन से शिकायत भी किया जा चुका था लेकिन कोई फायदा नहीं हो रहा था। लेकिन बीएसपी अब लाल मिट्टी से अब पैलेट नहीं बनाकर इस फाइंस की अशुद्घि निकालकर इसे कधो माल की तरह ही इस्तेमाल किया जाएगा। इस यूनिट के लगने से हितकसा डैम में वर्षों से इकठ्ठी लाल मिट्टी की समस्या काफ ी हद तक कम हो जाएगी। खेतों में लाल मिट्टी पानी भरने की समस्या नहीं रहेगी वहीं आसपास का वातावरण पर्यावरण भी ठीक रहेगा। बीएसपी के अनुसार राजहरा में लगभग 19 एमपी डंप हैं। करोड़ों की स्माइल की खनिज है। एक बार फिर नईदुनिया आमजनों के विश्वास पर खरा उतरा।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket