दल्लीराजहरा (नईदुनिया न्यूज)। कोरोना संकट के चलते सारे स्कूल बंद है, लेकिन शिक्षण व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए ऑनलाइन क्लास सहित सामूहिक कक्षाएंजारी है। बधाों को पढ़ने के लिए सबसे पहले तो किताबों की आवश्यकता है। अब नये कक्षाओं में पहुंचे सरकारी स्कूल के बधाों के लिए छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम की ओर से किताबें भेजी जा रही हैं। विभागीय आदेश के अनुसार अब शिक्षक बधाों को घर-घर जाकर किताबों का वितरण करेंगे।

गौरतलब है कि कोरोना संकट के चलते वर्तमान में शैक्षणिक गतिविधियां स्कूल स्तर पर पूरी तरह से बंद है। ऑनलाइन शिक्षा के तहत बनाये गए पोर्टल के माध्यम से शिक्षक और विद्यार्थी जुड़ रहे हैं। इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में वालेंटियर की भी व्यवस्था की गई है। इनके माध्यम से वर्तमान में जहां स्मार्ट फोन एवं नेटवर्क की उपलब्धता है वहां बधाों को शिक्षा दी जा रही है। लेकिन जहां यह सुविधा नहीं है वहां वालेंटियर एवं शिक्षक जाकर सीमित संख्या में बधाों को घर के आंगन या पेड़ों के नीचे पढ़ा रहे है। पढ़ने के लिए किताबों का होना भी आवश्यक है। इसके लिए शिक्षा मंडल किताबें भेज रहा हैं। जहां लॉकडाउन के चलते इसका वितरण स्कूलों में शिक्षकों की ओर से किया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020