दल्लीराजहरा (नईदुनिया न्यूज)। लगातार लॉकडाउन की गति तेज होने और शिक्षा का स्तर स्थिर हो जाने के बाद कलेक्टर जनमेजय महोबे ने राज्य शासन के निर्देश पर अब छात्रों के घर सूखा मध्या- भोजन पहुंचाने की व्यवस्था करते हुए संबंधित विभाग को दिशा निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि अब कोरोना काल तक छात्रों के घर मध्या- भोजन पहुंचाया जाए। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बीते छह माह से सरकारी स्कूलों में ताला लटका हुआ है। स्कूल शिक्षा विभाग अब बधाों के घर मध्याह्व भोजन का सूखा पैकेट पहुंचाएगा। स्कूलों में बधाों की दर्ज संख्या के अनुसार मिड-डे-मील के सूखे पैकेट तैयार किए जाएंगे। पैकेट तैयार होने के बाद शिक्षक व महिला समूह के सदस्य बधाों के घर जाकर इसका वितरण करेंगे। छात्रों को पौष्टिक खाना बंद होने के कारण शासन ने अब प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के बधाों को मध्या- भोजन के बदले सूखा अनाज यानी चावल-दाल देने का आदेश दिया है। विभागीय आदेश मिलने के बाद स्थानीय स्तर पर अधिकारियों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

शिकायत मिलने पर नपेंगे

सूखा राशन का पैकेट बधाों के घर पहुंचाया जाना है। इसके लिए दाल, चावल, तेल की मात्रा निर्धारित कर दी गई है। निर्धारित मात्रा के अनुरुप ही पैकेट तैयार किए जाएंगे। इस दौरान डीईओ व बीईओ लगातार इसकी मानिटरिंग करेंगे। मानिटरिंग के दौरान किसी भी प्रकार की शिकायत या गड़बड़ी मिली तो सीधे संबंधित के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। यहीं नहीं शिक्षकों को बधाों के घर सूखा राशन का पैकेट पहुंचाने के दौरान कोविड-19 गाइड लाइन का गंभीरता से पालन करना होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020