दल्लीराजहरा (नईदुनिया न्यूज)। अधिमास के चलते इस बार शारदीय नवरात्र की अवधि एक महीने बढ़ गई है। इस तरह यह अनूठा संयोग करीब 165 वर्ष बाद बना है। नवरात्र पर्व की अवधि बढ़ने से इस बार देवी मंदिरों का रंगरोगन आराम से हो रहा है। पंडित सनत पाठक ने बताया कि हर वर्ष पितृ पक्ष के समाप्त होते ही अगले दिन से नवरात्र की शुरुआत हो जाती है, लेकिन इस बार अधिमास के चलते इसमें बदलाव हुआ है। क्योंकि अधिमास होने से नवरात्र एवं पितृपक्ष के बीच एक माह का अंतर आ गया है। जो कि लीप वर्ष होने की वजह से है। उन्होंने बताया कि चातुर्मास जो कि चार माह का होता है इस बार एक माह बढ़ने से पांच माह के होने के आसार है। क्योंकि लीप ईयर और अधिमास दोनों एक ही एक साल में हो रहे है। इस तरह 17 सितंबर को श्राद्ध पक्ष खत्म होने के बाद अठारह से अधिमास शुरु हो गया है। इसके चलते इस बार नवरात्र पर्व 17 अक्टूबर से शुरु होगा।

मूर्तिकार प्रतिमा बनाने में जुटे

मूर्तिकार भी मां दुर्गा की प्रतिमा बनाने में जुटे हैं। साथ ही कोरोना संकट के चलते नवरात्र पर्व को लेकर भक्त इस बार थोड़े चितिंत जरुर नजर आ रहे हैं। वहीं पंडित सनत पाठक ने बताया कि अधिमास में भगवान विष्णु के मंत्र का जाप करना काफी मंगलकारी है। साथ ही यज्ञ हवन, भागवत पुराण, विष्णु पुराण, भविब्योत्तर पुराण का पठन एवं श्रवण करना भी काफी लाभकारी है। इधर नवरात्र पर्व को लेकर जिला प्रशासन ने कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर दिशा-निर्देश जारी किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020