बालोद (नईदुनिया न्यूज)। जिले के नहर नालियों की साफ-सफाई कुछ ही दिनों पहले सिंचाई विभाग द्वारा मनरेंगा के तहत नहर नालियों की साफ-सफाई कराई गई है। जो मात्र खानापूर्ति ही साबित हुई है। नालियों में अभी भी झाड़ी उगे है। सफाई के नाम पर मात्र नहर पार में उगे पेड़-पौधे की ही सफाई की गई है। जबकि पूरे नहर नालियों में गंदगी भरा पड़ा है। नहरें खस्ताहाल है। खरखरा नहर सहित जिले के कई नहरों की स्थिति बदहाल है। कधाी एवं पक्की नहरें अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रही हैं।

नहरों की दशा देखकर किसान चिंतित हैं कि आखिरकार उनके खेतों तक पानी कैसे पहुंचेगा। विभाग द्वारा नहर नालियों की कई वर्षों के बाद साफ-सफाई की जा रही है। वह भी खानापूर्ति साबित हो रही है। नहरों की साफ-सफाई में संबंधित विभाग महज खानापूर्ति कर रहा है, लेकिन इन नहरों की सफाई के बाद भी स्थिति बेहतर नहीं हुई है। मौजूदा हालात में देखें तो सिचाई विभाग की नहरें जगह जगह टूटी पड़ी हैं। शासन द्वारा नहरों की सफाई एवं मरम्मत के लिए हर वर्ष राशि स्वीकृत की जाती है। जिसके बाद भी जिले की नहर नालिया अपनी बदहाली की आंसू बहा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020