दल्लीराजहरा (नईदुनिया न्यूज)। विश्व महामारी कोरोना के चलते जहां पूरी दुनिया में जनजीवन बुरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है। वहीं ऐसे त्योहार जिसमें हर वर्ष हर्ष उल्लास और भक्तिमय वातावरण नजर आता था। इस बार कोरोना ने उसपर भी ग्रहण लगा दिया है। अंचल में दशहरा का उत्सव बहुत भव्य होता रहा है जिसमें शरीक होने हर वर्ष सैकड़ों सैलानी अंचल के गांवों आते रहे हैं। हर रोज शहर में हजारों की संख्या में भीड़ जुटती रही है लेकिन इस बार ऐसा कुछ भी नर नहीं आ रहा। लोगों में कोरोना के डर के साथ-साथ शासन-प्रशास के नियम कायदे भी माहौल को खामोश कर रखा है। दुर्गोत्सव में भक्ति गीतों की गूंज, मांई जी के दर्शन के लिए पदयात्रा करने वालों का हुजूम, जगह-जगह भण्डारा, मीना बाजार, विकास प्रदर्शनी, लोकोत्सव कुछ भी नहीं है। इस बार ऐसा कुछ भी नजर नहीं आ रहा है। कोरोना ने इस कदर गदर मचा रखा है कि शहर के लोग भी घर से निकल कर इन स्थलों तक नहीं पहुंच पा रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस