दल्लीराजहरा (नईदुनिया न्यूज)। अंचल के अधिकांश क्षेत्र में धान की फसल तैयार हो गई है। कटाई के लिए मजदूर नहीं मिलने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। किसानों ने बताया कि साधन संपन्ना कई किसान हैं जिन्हें मजदूर ही नहीं मिल पा रहे हैं। जिनका धान का रकबा अधिक है वे हार्वेस्टर या अन्य साधन से धान कटाई करा रहे हैं लेकिन धान कटाई के लिए खेतों में कई जगह पानी भरे होने की वजह से धान के भीतर गीलापन होने के कारण हार्वेस्टर नहीं घुस पा रहा है। ऐसी स्थिति में वह मजदूर ढूंढ रहे हैं। किसान बड़े रकबा में धान की फसल लिए थे। जिससे फसल समय पर तैयार हो गया है। हालांकि बेमौसम बारिश के चलते धान की फसल को थोड़ा नुकसान भी हुआ है। इसे लेकर वे अब पक चुके धान के फसल की कटाई कराने में लगे हुए हैं लेकिन इसके लिए भी उन्हें मजदूर नहीं मिल रहा है। इससे फसल कटाई कार्य अधर में लटक गया है। ऐसे में किसान अपने परिजनों के साथ फसल कटाई करने विवश है क्योंकि मौसम परिवर्तन के चलते आसमान में बादल छा रहे हैं। ऐसे में यदि बारिश होती है तो उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ेगा।

हार्वेस्टर की बढ़ी मांग

ग्राम नर्राटोला, चिखली, साल्हे, सिंघनवाही, टेकाढोड़ा, चिखलाकसा, धोबेदंड, बिटाल, अरमुरकसा, आड़ेझर, मरकाटोला, बम्हनी, छिंदगांव, अवारी, कांड़े, कुंआगोंदी, अड़जाल, ठेमाबुर्जुग, पेण्ड्री, पटेली, कुसुमकसा, धोबनी अ, धोबनी ब, भर्रीटोला 43, रजही, चिपरा, ध्रुवाटोला, सुवरबोड़ सहित अन्य गांवों के किसान तो मजदूर नहीं मिलने से हार्वेस्टर का सहारा लेने विवश हैं। यही नहीं कई अत्याधुनिक मशीनों से भी धान की फसल कटाई कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस