बालोद। नईदुनिया न्यूज

'ग्राम भ्रमण कार्यक्रम के तहत गुरुवार को कलेक्टर सहित पूरा प्रशासनिक अमला बस में सवार होकर मालगांव पहुंचा। वहां कलेक्टर रानू साहू ने नीम और करंज पेड़ के नीचे चौपाल लगाई और एक-एक कर ग्रामीणों की समस्याओं से रू-ब-रू हुई। ग्रामीणों ने राशन कार्ड बनाने, पुलिया निर्माण कराने, सड़क मरम्मत कराने, स्कूल में शिक्षक नियुक्त करने आदि की मांग की।

कलेक्टर ने ग्रामीणों की मांगों एवं समस्याओं को गंभीरतापूर्वक सुनी और नियमानुसार निराकरण का भरोसा दिलाया। कलेक्टर ने खाद्य विभाग के अधिकारियों को ग्राम मालगांव में कैम्प लगाकर सभी परिवारों का राशन कार्ड बनाने के निर्देश दिए। कलेक्टर के पूछने पर ग्रामीणों ने बताया कि पटवारी तथा शिक्षक नियमित आते हैं। शासकीय उचित मूल्य की दुकान से राशन मिलता है। ग्रामीणों को विभागीय अधिकारियों द्वारा शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देकर उसका लाभ उठाने प्रेरित किया गया। इसी प्रकार अन्य विभाग के अधिकारियों ने भी अपने विभाग की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी ग्रामीणों को दी। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री ए.के.वाजपेयी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री लोकेश कुमार चन्द्राकर, एस.डी.एम. श्रीमती सिल्ली थामस सहित जिला स्तरीय अधिकारी और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

गांव का किया भ्रमण

कलेक्टर ने अधिकारियों और ग्रामीणों के साथ गांव का पैदल भ्रमण कर आंगनबाड़ी केन्द्र, उप स्वास्थ्य केन्द्र और उचित मूल्य की दुकान का निरीक्षण किया और ग्राम स्तर पर योजनाओं के क्रियान्वयन का जायजा लिया। उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्र में बच्चों से नाश्ता तथा गरम भोजन मिलने की जानकारी ली।

खानपान में ना बरतें लापरवाही

फोटो 10 बालोद-2

कलेक्टर ने गांव में कुपोषित बच्चे मिलने पर उनके पालकों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को कहा कि खानपान में किसी तरह की लापरवाही ना बरतें। बच्चों को नियमित खाना व जो आहार है वह उन्हें जरूर दें, ताकि बच्चों को कुपोषण से मुक्ति मिले और वह दूसरे बच्चों की तरह स्वस्थ जीवन जी सके। कुपोषण को जड़ से खत्म करने के लिए एकजुट होकर काम करना पड़ेगा। माताओं से कहा गया कि वे अपने बच्चों को नियमित आंगनबाड़ी केंद्र भेजें, क्योंकि यही वह जगह है जहां पर बच्चों को पोषण आहार मिलता है और किस मात्रा में किस पोषक तत्व की कितनी जरूरत है यह पता चलता है। सरकार जब बच्चों को खाना दे रही है, तो उसे भेजने में किसी भी पालक को ऐतराज नहीं होना चाहिए।

------------

आंगनबाड़ीः बच्चों ने सुनाई कविता

निरीक्षण के दौरान कलेक्टर आंगनबाड़ी केंद्र पहुंची वहां बच्चों ने कलेक्टर को कविता सुनाई। बच्चों से कविता सुने कलेक्टर ने बच्चों को चॉकलेट देकर उनका उत्साहवर्धन किया। उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्र के सामने पौधारोपण के निर्देश दिए। वहां अन्य सुविधाओं की जानकारी ली। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान की विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई।

-----

स्वास्थ्यः स्वच्छता रखने के निर्देश

स्वास्थ्य केंद्र में पहुंच कलेक्टर ने उप स्वास्थ्य केन्द्र में उपलब्ध दवाईयों की जानकारी ली और दवाईयों का अवलोकन भी किया। उन्होंने उप स्वास्थ्य केन्द्र को नियमित स्वच्छ रखने के निर्देश दिए। वहीं अस्पताल की सुविधओं को लेकर ग्रामीणों से चर्चा भी की। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना के अंतर्गत साप्ताहिक बाजार में स्वास्थ्य शिविर लगाया जा रहा है।

-----

राशनः मिट्टीतेल वितरण को जाना

कलेक्टर ने शासकीय उचित मूल्य की दुकान में पहुंच वहां उपलब्ध राशन तथा मिट्टी तेल की जानकारी ली। इस दौरान राशन दुकान लेने पहुंचे हितग्राहियों ने कलेक्टर को बताया कि उन्हें प्रतिमाह राशन तथा मिट्टी तेल निर्धारित दर पर प्राप्त होता है। हितग्राही राशन वितरण को लेकर संतुष्ट नजर आए। कलेक्टर के साथ पहुंचे खाद्य विभाग के अधिकारियों ने योजना के क्रियान्वयन की जानकरी उपलब्ध कराई।

-------

कृषिः नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी

कलेक्टर ने जल संरक्षण के लिए बनाए गए सोकपिट का अवलोकन किया। वहीं गांव के गोठान का भी निरीक्षण किया। कृषि विभाग के अधिकारी द्वारा शासन की महत्वाकांक्षी नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी की महत्ता से ग्रामीणों को अवगत कराया गया। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत निर्मित आवासों का अवलोकन किया। उन्होंने गांव के सीमेंट कांक्रीट सड़क का भी अवलोकन किया। उन्होंने गॉव के विकास के संबंध में ग्रामीणों से चर्चा की।

-----