बलौदाबाजार। कोरोना संक्रमण की चुनौतियों के बीच जिला मुख्यालय स्थित डेडिकेटेड कोविड अस्पताल के डॉक्टर एवं मेडिकल की पूरी टीम लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधा देने में जुटी हुई है। इनके लगातार सकारात्मक प्रयासों के चलते गंभीर स्थिति में भर्ती हुए मरीज भी पूरी तरह से स्वस्थ हो रहे हैं। ऐसे ही एक कोरोना मरीज मुश्किलों से भरी जंग जीती हैं।

बजरंग वार्ड भाटापारा नगर के निवासी 56 वर्षीय सुनीता शुक्ला ने कोरोना को मात दी हैं। उन्होंने 40 दिनों में अपने मजबूत हौसलों से यह जंग जीती हैं, जो अपने आप मे एक मिशाल है। सुनीता 80 प्रतिशत तक संक्रमित था साथ ही उनका ऑक्सीजन लेवल भी 79 प्रतिशत था। उनके साथ उनका 30 वर्षीय बेटा विवेक शुक्ला भी कोरोना से संक्रमित हो गये थे। आज दोनों पूरी तरह से स्वस्थ होकर कोविड केयर अस्पताल से वापस घर लौट गये हैं। विवेक ने बताया कि कोरोना के प्रारंभिक लक्षण दिखने पर मैने 20 मार्च को अपना एंटीजन कोविड टेस्ट कराया था, जिसमें रिपोर्ट पॉजिटिव आया था। मेरे सम्पर्क में आने के चलते मैने अपनी मां और पिता जी का भी थ्रू नॉट टेस्ट 22 मार्च कराया था। जिसका रिपोर्ट पॉजिटिव आया। पिता को कोई तकलीफ नहीं थी। वह घर में ही होम आइसोलेशन में रहकर पूरी तरह से स्वस्थ हो गये, पर मैं और मेरी मां को सांस लेने में बहुत तकलीफ हो रही थी साथ ही मां का ऑक्सीजन लेवल लगातार गिर रहा था। इसके चलते डॉक्टरों की सलाह पर हम दोनों जिला कोविड केयर अस्पताल में 27 मार्च को भर्ती हुए है। इसके अतिरिक्त मां को बीपी एवं डिप्रेशन की भी अलग समस्या थी। इस मुश्किल मामले में डाक्टर शैलेन्द्र साहू एवं उनकी टीम ने कड़ी मेहनत की और उनकी स्थिती को सामान्य लाया।

सुनीता शुक्ला 14 दिनों तक आइसीयू में रहने एवं 20 दिनों तक सामान्य ऑक्सीजन में रहने के बाद आज 5 मई को पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद मां-बेटे दोनों को डिस्चार्ज किया गया। विवेक ने बताया कि कोरोना से निपटने के लिए चिकित्सकीय परामर्श के साथ सकारात्मक सोच रखना भी जरूरी है। वे पेशे से एक बड़े फार्मा कंपनी में एमआर हैं। उन्होंने डाक्टरों एवं उनकी टीम को धन्यवाद देते हुए कहा कि इस विपरीत परिस्थिति में भी डॉक्टरों से सही उपचार मिलने से वे आज मैं और मेरी माँ पूरी तरह स्वस्थ हैं। जिला अस्पताल का उपचार बेहद ही उधा स्तरीय हैं। यहं जितनी सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है उतना रायपुर एवं बिलासपुर के बड़े निजी अस्पतालों में भी नहीं करायी जाती। हमें अस्पताल में जरा भी तकलीफ नहीं हुई, वहां सभी व्यवस्था अच्छी है। डेडिकेटेड कोविड अस्पताल में बेहतर चिकित्सा सुविधा मिलने पर उन्होंने डॉक्टरों, नसोर् एवं स्टाफ साथ ही जिला प्रशासन के प्रति आभार व्यक्त किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags