दलजीत सिंह छाबड़ा। बलौदाबाजार नईदुनिया

बलौदाबाजार-कसडोल मार्ग में बीते 31 अगस्त को हुए सड़क हादसे में तीन लोगों की मौत हो चुकी है। हादसे के लिए ट्रक चालक को दोषी बनाया गया, वहीं बस चालक और मालिक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। जबकि उक्त बस का परमिट इस मार्ग के लिए नहीं था। दूसरे मार्ग का परमिट लेकर बस बलौदाबाजार-कसडोल मार्ग पर चल रही थी। आरटीओ और पुलिस की अनदेखी के चलते हादसे में दो लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। लेकिन पुलिस ने अब तक बस संचालक और चालक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं तय की है।

रायपुर-बलौदाबाजार मार्ग का परमिट

थाना में जमा बस के दस्तावेजों का अवलोकन करने पर नईदुनिया ने पाया कि उक्त बस का परमिट रायपुर से बलौदाबाजार मार्ग पर सारागांव-खरोरा-भैंसा होकर चलने का था। लेकिन बस संचालक द्वारा अपनी मर्जी से बस को बलौदाबाजार-कसडोल मार्ग पर चलाया जा रहा था।

बस स्टैंड में ही है यातायात विभाग का दफ्तर

बलौदाबाजार बस स्टैंड करीब मुख्य मार्ग में जिला यातायात विभाग एवं जिला यातायात पुलिस कार्यालय स्थित है। उसके बावजूद भी खुलेआम बस संचालन में गंभीर अनियमितताएं बरती जा रही है। बसें बिना परमिट की ओवरलोडिंग दौड़ रही है, चालकों के पास वैद्य ड्राइविंग लाइसेंस है कि नहीं इसकी जांच कोई नहीं करता।

वर्सन

हमने ट्रक चालक को दुर्घटना का जिम्मेदार मानते और बस को हुए गंभीर नुकसान और जानमाल की क्षति को देखते हुए हमने ट्रक चालक के विरुद्घ अपराध दर्ज किया है।ट्रक ड्राइवर ने घटना की शाम को ही चौकी आकर आत्मसमर्पण कर दिया था, बस ड्राइवर दो सितंबर को चौकी पर आया था। ट्रक ड्राइवर को मुचलके पर जमानत दे दी गई है, और बस ड्राइवर के विरुद्घ कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है।

- भीम कुमार सोम, लवन चौकी प्रभारी

---

वर्सन

मेरी बस का परमिट रायपुर से बलौदाबाजार का है। बलौदाबाजार-कसडोल मार्ग का परमिट नहीं है, आवश्यकता पड़ने पर बस को इस मार्ग से चला लेते है।

- मानक ठाकुर, बस संचालक, जय अंबे ट्रैवल्स

-----

वर्सन

दुर्घटनाग्रस्त बस का परमिट दूसरे रूट का था, अब यह बस इस मार्ग में कितने समय से चल रही है इसकी जानकारी उड़नदस्ता टीम से लेता हूं। हालांकि आरटीओ की उड़नदस्ता टीम समय-समय पर गाड़ियों का परमिट चेक करती है। अब बस चालक सड़क पर क्या कर रहे इस संदर्भ में क्या बोल सकते है।

- एसएल लकड़ा, जिला परिवहन अधिकारी, बलौदाबाजार

-----

सीधी बात

राजेश जोशी, आइपीएस, एसडीओपी बलौदाबाजार

संवाददाता : बस ड्राइवर एवं बस मालिक के विरुद्घ पुलिस द्वारा सही तरीके से जांच नहीं की गई है और इनके विरुद्घ अपराध दर्ज नहीं किया गया है?

एसडीओपी : तथ्य हमारी जानकारी में आए हैं, नियमानुसार अनुसार जांच करके अपराध दर्ज किया जाएगा।

संवाददाता : क्या पुलिस द्वारा यात्री वाहनों एवं भारी वाहनों की नियमित रूप से चेकिंग की जाती है।

एसडीओपी : इस कार्य के लिए आरटीओ और ट्रैफिक पुलिस है। आवश्यकता पड़ने पर थाने की पुलिस द्वारा भी चेकिंग की जाती है।

संवाददाता :- क्या पुलिस के द्वारा ओवरलोड यात्री बसों और ओवरलोड भारी वाहनों की नियमित जांच की जा रही है?

एसडीओपी :- हां, पुलिस द्वारा यह नियमित जांच की जाती है।

संवाददाता :- क्या पुलिस द्वारा यात्री बस चालकों का पुलिस वेरिफिकेशन किया जाता है ?

एसडीओपी :- पुलिस वेरिफिकेशन का दायित्व बस मालिकों का है, अगर बस मालिक हमारे पास पुलिस वेरिफिकेशन के लिए आएंगे तो हम बिल्कुल पुलिस वेरिफिकेशन करेंगे।

----------