सिमगा (नईदुनिया न्यूज)। नवरात्रि के समापन के बाद धूमधाम के साथ नगर के विभिन्ना स्थानों में विराजित मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन सोमवार को किया गया। विसर्जन के लिए निकाली गई झांकी सुबह नौ से दोपहर तीन बजे तक जारी रहा। इस दौरान देवी प्रतिमाओं के साथ जसगीत गायक मां दुर्गा के भक्ति में लीन जसगीत गा रहे थे। वहीं डीजे की धुन पर भी लोग थिरकते रहे। झांकी देखने बड़ी संख्या में लोगों का हुजूम इकट्ठा हुआ था। सड़क के दोनों ओर जयस्तंभ चौक से विसर्जन स्थल शिवनाथ नदी तक लगभग दो किलोमीटर तक नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों से आए लोगों की भीड़ लगी रही।

सिमगा का सांग नृत्य है प्रसिद्घ

सिमगा में नवरात्रि के दौरान सांगधारियों द्वारा जसगीत की धुन पर प्रस्तुत किए जाने वाले सांग नृत्य अपने आप में अनूठा होने के साथ ही प्रदेश में काफी प्रसिद्घ है। इसमें बड़े ही नहीं बल्कि छोटे-छोटे बच्चे भी सांग लेकर माता की भक्ति में डूब जाते हैं जिसे देखने दूर-दूर से लोग यहां आते हैं। इसके साथ ही नौ दिनों से बोए गए जवांरा व जोत के विसर्जन के दौरान महिलाओं के ऊपर आई देवी की सवारी देखने लोग लालायित रहते हैं।

कोरोना के चलते नहीं आए विदेशी पर्यटक

दशहरा के दिन विदेशी पर्यटक सिमगा से गुजरते समय सिमगा में रुकते थे। देवी प्रतिमाओं सांगधारियों तथा महिलाओं को आए देवी की सवारी को नजदीक से देखते थे तथा भारतीय संस्कृति की तारीफ करते थे। लेकिन इस बार कोरोना महामारी के चलते वे नहीं आ पाए।

बिना मास्क लगाए रहे लोग

इस बार शासन द्वारा जारी कोविड 19 के गाइड लाइन के अनुसार देवी प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए प्रशासन की ओर से सभी समितियों को जानकारी दे दी गई थी। लेकिन लोग बिना मास्क लगाए भीड़ में दिखे। इस बीच लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह दिखे। वहीं पुलिस विभाग ने लोगों को फल वितरण करने स्टाल लगाया था। विसर्जन के दौरान इस बार लोगों ने राहत की सांस लिया की। बाइपास बनने के बाद सभी छोटे बड़े वाहन को शहर के अंदर नहीं आना पड़ा। नहीं तो 6 से 7 घंटों तक नेशनल हाइवे को बंद रखा जाता था।

-------

महानदी में किया प्रतिमा का विसर्जन

सेल (नईदुनिया न्यूज)। ग्राम मल्दा में गुड़ी चौक दुर्गोत्सव समिति ने महानदी में दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन किया। इसके पहले सुबह 11 बजे शोभायात्रा निकाली गई। ट्रैक्टर पर सवार भक्त माता के जयकारे लगाते रहे। फिर दुर्गा माता का मूर्ति को शांतिपूर्ण महानदी में नम आंखों से विदाई दी गई। कोरोना काल के चलते दुर्गा माता जगह-जगह आरती नहीं उतारी गई और न ही प्रसाद वितरण नहीं किया। दुर्गोत्सव समिति वाले ने गाइडलाइन के हिसाब से कार्य किया। न डीजे न बैंड बाजा और न ही कोई भी नृत्य किया गया। अध्यक्ष राधेश्याम साहू, लक्ष्मण साहू, सचिव सोमनाथ साहू, सहसचिव छोटेलाल कर्ष, नंददयाल लखन साहू, राज चौहान, संतराम पैकरा, चैतराम यादव, केशव साहू, नवीन साहू, बुदेश्वर साहू, परमेश्वर साहू, रूपेश साहू, राजू साहू, शिवसिंग पैकरा, दिनेश भूषण यादव, दिलीप साहू, प्रेमलाल कृष्ण साहू आदि शामिल हुए। इसी प्रकार ग्राम खैरा, मोतीपुर, सर्वानी, पिसीद, छेछर में दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन किया गया।

--------

रिसदा में श्रद्घाभक्ति के साथ किया प्रतिमा का विसर्जन

बलौदाबाजार/रिसदा (नईदुनिया न्यूज)। कोरोना संक्रमण के बीच ग्राम रिसदा में दशहरा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। वहीं श्रद्घा भक्ति के बीच मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया गया। नव दुर्गा उत्सव समिति, साहू चौक, नव दुर्गा उत्सव समिति साहड़ा देव चौक व नव दुर्गा उत्सव समिति आनंदपारा के सदस्यों ने विराजित मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन गांव के चंडी तालाब में किया। वहीं जय मां महामाया सेवा समिति के सदस्यों ने बाजे गाजे के साथ मां देवी की आराधना की। गलियों में शोभा यात्रा निकालकर आरती की। इस अवसर पर बड़ी संख्या में ग्रामिण उपस्थित हुए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस