कसडोल (नईदुनिया न्यूज)। प्राथमिक कृषि साख सहकारी हसुआ के कर्मचारी विगत एक वर्ष से वेतन का मोहताज हैं। सहकारी समिति हसुआ के कर्मचारियों ने एक सप्ताह के भीतर भुगतान नहीं होने पर पूरे परिवार सहित समिति के सामने भूख हड़ताल पर बैठने की चेतावनी संचालक मंडल व शासन प्रशासन को दी है।

प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति हसवा पंजीयन क्रमांक 1258 सरकार के महती योजना समर्थन मूल्य पर धान खरीदी व उपभोक्ता भंडार के माध्यम से चावल वितरण करती है। समिति हसुआ अमोदी वर्ष 18-19 में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी सफलतापूर्वक कर मिलान कर लिया गया है परंतु मार्कफेड व उच्च अधिकारियों की लापरवाही से समिति को धान खरीदी पर मिलने वाली कमीशन 2-3 वर्ष बीत जाने के बावजूद समिति को आज तक नहीं मिला है। जिसके कारण समिति द्वारा कर्मचारियों को उनका वेतन नहीं दिया जा सका है। जिससे कर्मचारियों के परिवार की आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई है।

उल्लेखनीय है कि कोविड-19 जैसे प्रकोप के बीच में जान जोखिम में डालकर सेल्समैन के द्वारा लोगों को राशन वितरण किया गया। बावजूद मार्कफेड व उच्च अधिकारी समिति के धान की कमीशन दिलाने में नाकाम रहे। इस संबंध में संचालक मंडल व कर्मचारी संघ की ओर से मुख्यमंत्री, सहकारिता मंत्री, जिलाध्यक्ष बलौदा बाजार भाटापारा, खाद्य अधिकारी बलौदाबाजार, मार्कफेड बलौदा बाजार, छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ रायपुर को 19 अगस्त को मेल के माध्यम से गुहार लगाकर निवेदन किया गया परंतु आज तक उच्च अधिकारी व सत्ता में बैठे मंत्रियों द्वारा समिति का पत्र व मांग पर ध्यान नहीं दिया गया। अगर समिति के कर्मचारी भूख हड़ताल पर बैठते हैं तो पंजीयन का कार्य रुक जाएगा जिसके समस्त जिम्मेदारी मार्कफेड व शासन-प्रशासन की बनती है।

इस सम्बंध में सहकारी समिति के अध्यक्ष ब्यासनारायण श्रीवास का कहना है कि मैं इस संबंध में लगातार 8 महीने से विपणन संघ बलौदा बाजार, जिलाधीश बलौदाबाजार, पंजीयक बलौदा बाजार, छत्तीसगढ़ राज्य विपणन संघ रायपुर सरकारी दफ्तर का चक्कर लगा रहा हूं परंतु अधिकारियों द्वारा ध्यान नहीं दिया गया। मैंने नगरी प्रशासन मंत्री डहरिया से निवेदन किया है मंत्री द्वारा 16.7.2020 को नोटसीट खाद्य मंत्री व विपणन संघ रायपुर को जारी किया है इसके बावजूद छत्तीसगढ़ राज्य विपणन संघ द्वारा समिति को धान खरीदी पर कमीशन देने में तकलीफ हो रही है कर्मचारी द्वारा पूर्व में भी कलम बंद हड़ताल किया गया था परंतु रजिस्टर बलौदाबाजार द्वारा आश्वासन पर हड़ताल वापस लिया गया था पुनः भूख हड़ताल करते हैं तो समस्त जिम्मेदारी शासन प्रशासान व उच्च अधिकारी की होगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस