सुहेला (नईदुनिया न्यूज)। अंचल में शनिवार शाम को अच्छी वर्षा से किसानों के चेहरों पर रौनक देखने को मिली। किसान अभी खेतों की बियासी-रोपाई कार्य में लगे हैं जो कि अंतिम चरण में हैं। पखवाड़े भर बाद हुई वर्षा ने सूखे खेतों में पानी रुकने लायक कर दिया। क्योंकि विगत पखवाड़े भर पूर्व से बियासी-रोपाई का कार्य प्रारंभ हो चुका है। खेतों में धान की फसल की रोपाई-बियासी पूरा हो जाने के बाद अब पानी की जरूरत थी। लेकिन वर्षा नहीं होने से फसल खराब होने की चिंता में किसान डूबे थे।

शनिवार शाम को हुई आधे घंटे की वर्षा से धान के खेतों को संजीवनी मिल गई। अब किसान खेतों की निंदाई कर सकेंगे। इस वर्ष खंड वर्षा के कारण बहुत से किसानों के खेतों में डाले गए धान के बीज सही तरह से उग नहीं पाने से निराश हैं और दूसरों से धान का थरहा खरीद कर अपने खेती में लगा रहे हैं। इस वर्ष बरसात में धान बुवाई के समय अधिक वर्षा होने के कारण किसानों को बहुत ही परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

झमाझम वर्षा से किसानों ने ली राहत की सांस

घोटिया पलारी(नईदुनिया न्यूज)। पिछले दस दिनों से मानसून के बेरूखी के चलते तेज धूप और गर्मी का सामना करना पड़ा। जो किसानों से लेकर सामान्य लोगों के लिए संकट का विषय बन चुका था। शनिवार शाम पलारी क्षेत्र सहित पूरे बलौदाबाजार जिले में झमाझम वर्षा हुई, जो धरती की प्यास बुझाई और किसानों ने राहत की सांस ली।

आगामी सप्ताह में वर्षा की संभावना

बीच में मानसून ब्रेक की जो स्थिति बनी थी वह खत्म हो गई है। कई स्थानीय मौसमी तंत्र भी सक्रिय हो रहे हैं। इसकी वजह से अगले तीन-चार दिनों में बरसात की गतिविधियां बढ़ने की संभावना प्रबल हो गई हैं। मौसम विभाग अनुसार इस सप्ताह सात,आठ और नौ अगस्त को क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों में अच्छी वर्षा का संयोग बनता दिख रहा है। इस तरह एक बार फिर मानसून ने वापसी कर लोगों को राहत दी है।

धान के फसल के लिए वरदान

किसानों के अनुसार यह वर्षा खेतों में धान के पौधे लिए वरदान साबित होगी। वहीं खेतों में बनी दरारे अब भर जायेगी और यह वर्षा धरती की प्यास बुझाने में काफी कारगर साबित

होगा। इस वर्षा से जिले के सभी किसानों में एक आस बंध गई है। वर्षा किसानों के जख्म पर मरहम लगाने का काम किया है। वर्षा होते ही किसान खेतों की ओर बढ़ेंगे। गांव की एक कहावत है कि चढ़त बरसे अद्रा, उतरत बरसे हस्त, तब बसे गृहस्थ। इस वर्षा से खेती कार्यों में तेजी आएगी और किसान खेती कार्य

में जुट जाएंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close