सिमगा (नईदुनिया न्यूज)। सिमगा तहसील के ग्राम रिंगनी स्थित एपीएल अपोलो कंपनी द्वारा पूर्व में कंपनी की स्थापना के लिए रिंगनी एवं केसदा के किसानों से जमीन खरीदी करते समय किसानों से मौखिक वादा किया गया था कि उनके परिवार के एक सदस्य को कंपनी में नौकरी दिया जाएगा। लेकिन आज तक उन किसानों के परिवार को नौकरी नहीं मिला। इस वादाखिलाफी के विरोध में युवा कांग्रेस के बैनर तले रवि चंदा तिवारी के नेतृत्व में गांव के बेरोजगार युवकों जिसमें तिलक ध्रुव, जिनेंद्र भारती, आकाश मांडले, गिरजा मांडले, हीरा, दीपेश एवं दानी ध्रुव के कंपनी के गेट के सामने बुधवार को तीसरे दिन लगातार आमरण अनशन पर बैठे हैं। युवाओं के इस आमरण अनशन को रिंगनी व केसदा के ग्रामीणों का समर्थन मिल रहा है।

बुधवार को अनशन स्थल पर काफी संख्या में ग्रामीणों ने समर्थन दिया। ग्रामीण सरजू यदु ने बताया कि उन्होंने अपोलो कंपनी को अपना 12 एकड़ 60 डिसमिल जमीन बेच दिया था। इस बीच कंपनी के प्रतिनिधि द्वारा मौखिक रूप से उनके परिवार के एक सदस्य को कंपनी में नौकरी देने का आश्वासन दिया गया था। जिसे आज तक पूरा नहीं किया गया। ऐसे कई किसानों को झूठा आश्वासन दिया गया। रवि चंदा तिवारी ने बताया कि कंपनी द्वारा किसानों से जमीन ज्यादा कीमत देकर खरीद तो लिया लेकिन उनके परिवार के किसी भी सदस्य को नौकरी पर नहीं रखा है। कंपनी के इस वादाखिलाफी से ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। इसी तरह क्षेत्र के लगभग 100 बेरोजगारों का साक्षात्कार लेने के बाद भी उन्हें कंपनी में नौकरी नहीं दिया गया।

अनशनकारियों ने बताया कि कंपनी द्वारा मजदूरी का भुगतान भी 3 माह में किया जाता है जिसके चलते रोज कमाने खाने वाले मजदूर परेशान हैं। आसपास गांव के 60 से 70 युवाओं को छह माह नौकरी पर रखने के बाद बिना किसी कारण के निकाल दिया गया है। कंपनी के इस रवैये ग्रामीण नाराज हैं एवं इन्हीं मांगों को लेकर युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर बैठे हुए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close