भरूवाडीह। ग्राम पंचायत भरूवाडीह के आंगनबाड़ी केंद्र में सरपंच आनंद बंदे के मुख्य आतिथ्य व पंचगण रामेशरी साहू, मनोज भारती के विशेष आतिथ्य में पोषण पखवाड़ा मनाया गया। जहां उपस्थित महिला बाल विकास परियोजना अधिकारी पंथ मैडम व रिसदा सेक्टर सुपरवाइजर निर्मल वर्मा ने पोषण आवश्यकता के बारे में महिलाओं को विस्तार से समझाया गया कि किशोरी बालिका में खून की कमी होती है जिस कारण से वे विवाह के बाद गर्भावस्था के समय कमजोर हो जाती हैं। इसे कमी को पूरा करने के लिए हमारे भोजन में अतिरिक्त विटामिन शामिल करना चाहिए जिसमें अंकुरित अनाज, चना, नींबू, अंडा, रोटी, सलाद, गाजर, लाल भाजी, पालक भाजी, मुनगा भाजी शामिल करना चाहिए जिससे गर्भ में पल रहे बच्चे स्वस्थ तंदुरुस्त रहे। उन्होंने यह भी बताया की अलग-अलग उम्र के बच्चों, वयस्को, गर्भवती महिला, धात्री माता, सामान्य स्त्री, पुरुष के लिए अलग-अलग मात्रा में पोषण की आवश्यकता होती है। हम जो भी भोजन लेते हैं उससे हमें ऊर्जा प्राप्त होती है, ऊर्जा प्रमुख रूप से कार्बोहाइड्रेट वसा से प्राप्त होती है। संतुलित भोजन लेने से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता अर्थात रोग से लड़ने की शक्ति प्राप्त होती है। चावल, दाल, सब्जी, सूजी, दलिया, चना मटर, सोयाबीन, हरे पत्तेदार सब्जी, फल अंडा इन सभी चीजों को खाने में शामिल कर प्रोटीन प्राप्त कर सकते हैं। बधाों में कुपोषण के कारण शरीर के लिए लंबे समय तक संतुलित आहार नहीं मिलना ही कुपोषण होता है। कुपोषण को दूर करने के लिए शिशु के जन्म के एक घंटे के भीतर मां का पीला दूध (कोलेस्ट्रम) अवश्य पिलाएं जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। छह माह तक के बच्चे को केवल स्तनपान ही कराना चाहिए। कार्यक्रम में राधा साहू, सरोजिनी, मीना साहू, राधा यादव, रूही यादव, बुधियारिन ध्रुव, प्यारी साहू, शशि कला, हेमकुमारी, सुखनंदन ध्रुव, संतराम साहू, अशोक साहू व सचिव शैलेंद्री यादव, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता इंदिरा वर्मा व सहायिका द्रोपति वर्मा उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local