भाटापारा। कृषि उपज मंडी समिति भाटापारा में नवनियुक्त अध्यक्ष शर्मा ने मंगलवार को मंडी प्रांगण का निरीक्षण किया तथा वहां पर सभी मंडी कर्मियों से रूबरू होकर उनसे उनके समस्याओं से अवगत हुए। मंडी प्रांगण के विपणन कार्य अंतर्गत नीलाम कार्य में शामिल होकर नीलाम प्रक्रिया का जायजा लिया। किसानों को उनके कृषि उपजों का उच्चतम मूल्य दिलाने प्रदेश सरकार की मंशा को बताया तथा इस नीलाम की प्रतिस्पर्धा में शामिल होकर कृषकों को उनके उपज का सही मूल्य दिलाया। जिससे कृषक वर्ग सहित व्यापारी वर्ग भी नीलाम प्रक्रिया में शामिल होने पर खुशी जाहिर की ।

आज मंडी प्रांगण में आने वाले कृषि उपजो में धान महामाया 1670 से 1927, पुराना महामाया 1550 से 1803, एचएमटी 2101 से 2330, श्रीराम 2351 से 2600 इसी प्रकार उन्हारी जिन्सो में चना 4200 से 4605, मसूर 5501 से 6586, गेहूं 2000 से 2113, सोयाबीन 5651, अकरी 2250 से 2450 एवं बटरी 3520 से 3687 तक का भाव रहा। आज मंडी प्रांगण में जिन्सों की आवक लगभग 25000 कट्टो का रहा । शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार ने मुझे कृषि उपज मंडी समिति भाटापारा में अध्यक्ष के पद पर जिस विश्वास के साथ मनोनीत किया है उस पर मैं खरा उतरने का प्रयास करूंगा। मैं एक किसान परिवार का बेटा हूं तथा किसानो के हित में सदैव आगे रहा हूं और आगे रहूंगा। कृषि उपज मंडी भाटापारा प्रदेश् का सबसे बडी मंडीयों में से एक जाना जाता है, एक अच्छी मंडी के रूप में जो पहचान है उसे में अपने सहयोगियों के माध्यम से प्रदेशस्तर पर जाना जाये ये हमारी कोशिश रहेगी।

केके वर्मा कांग्रेस से छह साल के लिए निष्कासित

जिला कांग्रेस कमेटी बलौदाबाजार भाटापारा के प्रभारी महामंत्री गोपी साहू ने लगातार पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त रहने के कारण केके वर्मा को प्रदेश कांग्रेस की अनुशंसा पर तथा जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष हितेन्द्र ठाकुर के आदेश पर कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है। प्रभारी महामंत्री गोपी साहू ने जानकारी में बताया कि केके वर्मा संगठन के विरुद्घ लगातार बयानबाजी कर रहे थे। बीते दिनो उन्होंने कुछ समाचार पत्रों में संगठन के खिलाफ प्रेस विज्ञप्ति जारी किया था। जिसमें कांग्रेस के कई पदाधिकारियों का नाम बिना सहमति के प्रकाशित कर संगठन की छवि धूमिल करने का प्रयास किया। जिसकी शिकायत संगठन के पदाधिकारियों द्वारा किया गया था। जिला कांग्रेस द्वारा स्पष्टीकरण मांगने पर भी उनके द्वारा जवाब नहीं दिया गया था। इसके बाद भी लगातार पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त पाए जाने के कारण उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया है। गोपी साहू ने कहा कि पार्टी संगठन के विरुद्घ कोई भी नेता या कार्यकर्ता कार्य करता है तो उस पर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। जानकारी के मुताबिक केके वर्मा विधानसभा चुनाव के समय तक समाजवादी पार्टी में थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close