बलौदाबाजार। कलेक्टर रजत बंसल ने जिले में हो रही लगातार वर्षा एवं बाढ़ की संभावित स्थिति को देखते हुए नागरिकों से सुरक्षित रहने की अपील की है। वह लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। संबंधित अधिकारियों से पल पल की जानकारी लेते हुए बाढ़ तथा आपदा से बचाव के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने सेमरिया, गिधौरी, जोधरा, अमेठी घाट में पुल से ऊपर से पानी बहने की स्थिति को देखते हुए प्रशासन की टीम को तैनात रहने और बाढ़ वाले संभावित स्थानों में लगातार मुनादी करने के निर्देश दिए हैं। इसके अतिरिक्त जिले के सभी बाढ़ संभावित पुल पर आवागमन भी रोक दी गई है।

बाढ़ और अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए एवं नागरिकों की सुरक्षा के लिए आपदा नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गयी जो कि 24 घण्टा सक्रिय रहेगा जिसका हेल्पलाइन नंबर 07727-223697 है। जिसमे विभिन्ना अधिकारियों की रूटीन में ड्यूटी लगाई गयी है। रविवार शाम 5 बजे तक डिप्टी कलेक्टर रतन दुबे 8770955318 एवं 5 बजे के बाद डिप्टी कलेक्टर 91655 06006 की ड्यूटी लगाई गयी है। जिले के आम नागरिकों को बाढ़ से किसी भी तरह की समस्या होती है तो उक्त नंबर से सहायता ले सकते हैं।

गौरतलब है कि जिले में लगातार हो रही वर्षा से शिवनाथ एवं महानदी में बाढ़ जैसे हालत बन रहे हैं। जिससे नदी के निचली गांवों में पानी भरने से बाढ़ की स्थिति बन रही है। लोगों को आवश्यकता अनरूप सुरक्षित जगह में पहुंचाया जा रहा है। शिवरीनारायण में शबरी सेतु के ऊपर लगभग 1.5 फीट पानी आ चुका है। सेतु में बैरिकेडिंग व ड्यूटी लगा कर दोनों तरफ से आवागमन बंद करा दिया गया है। गिधौरी के रिहायशी इलाकों तक पानी नहीं पहुंचा है, एहतियातन मुनादी करवा दी गई है। सभी जगह प्रशासन सतर्क है और किसी भी आपात स्थिति से निपटने की तैयारी कर ली गयी है। अभी तक जान माल के नुकसान की सूचना नहीं है।

कलेक्टर-एसपी ने बाढ़ प्रभावित लोगों से की मुलाकात

कलेक्टर रजत बंसल एवं पुलिस अधीक्षक दीपक झा ने जिले के प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर प्रभावित व्यक्तियों से मुलाकात कर हाल चाल जाना। इस दौरान जिला मुख्यालय स्थित रैनबसेरा में ठहराए गए ग्राम कुकरदी सांवरा डेरा के प्रभावित व्यक्तियों से मुलाकात की। उपरोक्त प्रभावित व्यक्तियों के लिए समुचित व्यवस्था के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए हैं। साथ ही उन्होंने लटुवा नाले में पहुंचकर बाढ़ एवं बेरिकेटिंग का जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान एसडीएम बजरंग दुबे, तहसीलदार बलराम तंबोली, सीएमओ राजेश्वरी पटेल, बीएमओ डा प्रेमी सहित विभिन्ना विभागों के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

14 गावों के 281 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया

जिला कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक 14 गावों के कुल 281 लोगों को सुरक्षित जगह में शिफ्ट कराया गया है। प्रभावित गांवों में विकासखंड बलौदाबाजार के कुकरदी साँवरा बस्ती से 65, कसियारा में 4 परिवार के 15 लोग, करदा 2,चिचिरदा 1, अमलकुंडा 2 एवं ताराशिव 15, कसडोल के बलौदा 31, भाटापारा के लक्छनपुर में 15, रमदैया 50, पासिद 7, बिलाईगढ़ अंतर्गत गांव देवराहा 14, अमलडिहा 8, अलीकूद 4 एवं सिमगा के कुलीपोटा 20 लोग शामिल हैं। जिन्हें आस पास के सुरक्षित स्थानों में शिफ्ट किया गया है। जिसमे से रमदैया के 50 लोगों को पास के गांव राजपुर एवं खपरी आर में शिफ्ट किया गया है।

लगातार वर्षा से जनजीवन अस्त व्यस्त

विगत 3 दिनों से हो रही लगातार वर्षा से बिलाईगढ़ सहित पूरे क्षेत्र जलमग्न हो गया है। नदी नाले उफान पर हैं। वहीं खेत खलियान लबालब भर चुके हैं। गिधौरी से सारंगढ़ मुख्य मार्ग सहित कच्ची मार्ग भी अवरुद्घ है जिससे आवाजाही में राहगीरों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ज्ञात हो शिवरीनारायण जो कि 5 जिलों बिलासपुर, जांजगीर, कोरबा, रायगढ़, बलाौदाबाजार से जोड़ने वाले रास्ता है। इन दिनों भारी वर्षा के चलते नदी के पुल से 4 फीट ऊपर पानी बह रहा है, जिससे आवाजाही पूरी तरह प्रभावित है। नदी किनारे बसे गिधौरी के ग्रामीणों को इन दिनों दिनचर्या के सामानों के लिए काफी मश-त करना पड़ रहा है। वहीं नदी किनारे बसे गांव सलिया घाट, मिरचिढ़, देवरहा, मरकरी, पुलेनी घट, मडवा, गिधौरी सहित अन्य गांव के ग्रामीणों को लगातार वर्षा होने के चलते काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

कटगी क्षेत्र में भी बाढ़ की आशंका

कटगी क्षेत्र में लगातार वर्षा होने से बाढ़ की आशंका बनी हुई हैं। बाढ़ के आपदा से बचने के लिए जिला कलेक्टर रजत बंसल ने सभी नागरिकों को सतर्कता बरतने की अपील की है। कोटवार की माध्यम से नदी किनारे सभी गांवों में मुनादी करा दिया गया है। जोक नदी का जल स्तर लगातार बढ़ने से लोगों के मन में भय तो बना हुआ लेकिन अभी तक जन धन की हानि नहीं हुई हैं। छोटे-छोटे नालों में पानी भर जाने से यातायात अवरुद्घ हो गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close