घोटिया/पलारी। 'पेड़ नहीं हम प्राण लगाबो' की टीम लोगों को पौधारोपण के लिए जागरूक कर रही है। टीम की महिलाओं ने वट सावित्री व्रत पर बरगद का पौधा लगाकर पूजा-अर्चना की। महिलाओं का कहना है कि बरगद पूजन से पति की तो उम्र बढ़ती ही है परंतु स्वयं के रोपित पौधे यदि वृक्ष रूप में परिणित हो जाएं और उनसे आक्सीजन प्राप्त हो तो पति के साथ ही संपूर्ण समाज की उम्र लंबी होगी।

बुधवार को टीम की सुहागिनें 16 श्रृंगार कर उपवास रहकर बरगद के पेड़ की पूजा कर चारों ओर इस दिन फेरे लगाए ताकि उनके पति दीर्घायु हो। भारतीय धर्म में वट सावित्री पूजा स्त्रियों का महत्वपूर्ण पर्व है। जिसे करने से हमेशा अखंड सौभाग्यवती रहने का आशीष प्राप्त होता है। परंतु भारतवर्ष में एक ऱᆬढी प्रचलित है कि महिलाएं बरगद और पीपल का पौधा नहीं लगा सकती।

इन धारणाओं से परे छत्तीसगढ़ की 'प़ेड नहीं हम प्राण लगाबो' परिवार की माताओं-बहनों ने वट सावित्री पूजन पर सैकड़ों बरगद पौधों का रोपण किया और उन पौधों का ही पूजन किया। इन माताओं बहनों का मानना है कि बरगद पूजन से पति की तो उम्र बढ़ती ही है परंतु स्वयं के रोपित पौधे यदि वृक्ष रूप में परिणित हो जाएं और उनसे आक्सीजन प्राप्त हो तो पति के साथ ही संपूर्ण समाज की उम्र लंबी होगी।

------

कटगी में महिलाओं ने की वट वृक्ष की पूजा

कटगी। अंचल में सुहागिन महिलाओं ने अपने पति की दीर्घायु की मंगल कामना को लेकर गुरुवार को वट सावित्री का व्रत रख कर वट वृक्ष की पूजा व अर्चना की। यह व्रत ज्येष्ठ महीने की अमावस्या के दिन रखा जाता है। इस बार बुधवार व गुरुवार को अमावस्या पड़ने पर सुहागिन महिलाओं ने वट सावित्री का व्रत रखे। ऐसी मान्यता है कि वट सावित्री व्रत कथा के श्रवण मात्र से महिलाओं के पति पर आने वाली बुरी बला टल जाती है। यह पर्व को देश के सभी हिस्सों में मनाया जाता है। बरगद का प़े; चिरायु होता है। अतः इसे दीर्घायु का प्रतीक मानकर परिवार के लिए इसकी पूजा की जाती है। किंतु कोरोना काल के कारण महिलाओं ने बाहर न जा कर अपने घर में ही शारीरिक दूरी का पालन करते हुए पूजा-अर्चना किए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags