बालोद (नईदुनिया न्यूज )। भीषण गर्मी व चिलचिलाती धूप में जिले के गौसेवकों ने सोमवार को डोंडीलोहारा से बालोद के सिवनी स्थित कलेक्ट्रेट तक 20 किमी की पद यात्रा कर गौ तस्करों केखिलाफ कार्यवाही के लिएगौवंश बाजार पर रिपोर्ट दर्ज की मांग को लेकर एसपी को ज्ञापन सौपा। सिवनी स्थित कलेक्ट्रेट पहुचकर पहुंचकर एसपी को ज्ञापन सौंप। पद यात्रा में गौ सेवक राधेश्याम राजपूत ने बालोद में गौतस्करी बंद करने और गौ तस्कर छन्नाू गोस्वामी व अशोक चंद्राकर को गिरफ्तार करने की मांग किया हैं।

गौवंश तस्कर कंटेनरों में भरकर ले जाते है कत्लखाने : राधेश्याम राजपूत ने बताया कि बालोद जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रो में पैदल व वाहनों से गौ वंश की तस्करी बड़े स्तर पर हो रही है। जिसमें मुख रूप से अशोक चंद्राकर ग्राम खेरथा थाना डोंडी द्वारा अपने बाड़े में गौ वंश को एकत्रित कर भूखा प्यासा रखकर निर्दयता व निर्ममता से टुको कंटेनरों में भरकर नागपुर और हैदराबाद गौवंशों को कत्लखाना ले जाया जाता हैं।

अशोक चंद्राकर बड़ा ग़ैंग का संचालन कर रहा है। इसकेबाड़े ें नागपुर व हैदराबाद से असमाजिक एवं आपराधिक तत्व आकर रुकते है। जो भी गौवंश तस्करी को रोकने जाते है जिसे इन लोगो के द्वारा बलपूर्वक डराने धमकाने का कृत्य किया जाता हैं।

कानून का ख़ौफ़ तस्करों पर नही : छन्नाू गिरी गोस्वामी जो की गोवश बाजार उतई का ठेकेदार भी है। यह पैदल तस्करी में 400 से 500 गौवंश स्लीपर सेल्स के माध्यम से गरीब एवं कमजोर लोगों का उपयोग कर तस्करी कराते है। गोस्वामी गौवंश को पैदल उड़ीसा और बस्तर के जंगल होते हुए आंध्रप्रदेश के कल्लखानों में भेजवाते हैं। इन तस्करों में कानून का खोैफ नहीं है। बालोद जिला गौवंश तस्करी के मामले में अति संवेदनशील क्षेत्र बना हुआ है।

गौवंश खेरथा-बाजार और करहिभदर बाजार में गौवंश के साथ क्रूरता बरती जाती है।गौसेवा आयोग एवं जिव जंतु कल्याण बोर्ड के नियमों का पालन नहीं किया जाता। गौवंश बाजारों के बाजार संचालक रंगदारी गुन्डागर्दी के बलबूते पूर्णरूप से गौतस्करी कार्य करते हैं। मुख्यमंत्री भुपेश बघेल के स्वर्णिम अभियान की रक्षा एवं गौ संवर्धन को बढ़ावा मिलेगा। पद यात्रा में गौ सेवक राधेश्याम राजपूत,मनोज सिंह,नरेंद्र जोशी, हेमंत साहू,कमलेश,मनोज रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close