बालोद (नईदुनिया न्यूज)। प्रदेश के सभी जिलों को वर्ष 2023 तक क्षय रोग मुक्त करने को टीबी हारेगा देश जीतेगा के संकल्प के साथ एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान शुरु किया गया था। अभियान के दौरान पांच नए क्षय रोगी मिले हैं। जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के हाई रिस्क एरिया में मलिन बस्तियों, श्रमिकों, वृद्वा आश्रम, रैन बसेरा व जेल के कैदियों को लक्षित करते हुए यह अभियान चलाया गया था ।

इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 18,965 लोगों की स्क्रीनिंग की थी। जिसमें से 100 संभावितों की सैंपल जांच सीबीनाट लैब में कराने पर पांच लोगों में टीबी की पुष्टि हुई है । इन नए टीबी के मरीजों का पंजीकरण कर इलाज शुरू कर दिया गया है । जिला क्षय रोग अधिकारी डा. संजीव ग्लेड ने बताया जिले में सघन क्षय रोगी खोज अभियान 11 जनवरी से 12 फरवरी तक चलाया गया था॥ उन्होंने बताया जिले के उधा जोखिम में 7,077 लोगों की स्क्रीनिंग की गई। उनमें से 43 संभावितों की विशेष जांच में चार लोगों की रिपोर्ट टीबी पाजिटिव मिली । इसी तरह माइंस एरिया में 985 श्रमिक की स्क्रीनिंग की गई उनमें से 27 संभावित की विशेष जांच में एक की रिपोर्ट टीबी पाजिटिव रहा । इसके अलावा शहरी और ग्रामीण मलिन बस्ती क्षेत्र में 10,350 लोगों की स्क्रीनिंग की गई उनमें से 10 संभावित की विशेष जांच की गई । वहीं जेल में 215 कैदियों की स्क्रीनिंग की गई उनमें से 17 संभावित की विशेष जांच की गई।

16 टीमों के द्वारा चलाया गया सर्वे अभियान

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. जेपी मेश्राम ने बताया 11 जनवरी से 12 फरवरी तक इस विशेष टीबी रोगी खोज अभियान के लिए स्वास्थ्य विभाग ने 16 टीमें बनाई गई थीं। प्रथम चरण टीबी रोगी की खोज के लिए प्रत्येक टीम में 4 सदस्य थे।

पंजीकरण और इलाज पर जोर

क्षय रोगी खोजी अभियान में लोगों को यह भी बताया गया कि अगर उनके यहां किसी का क्षय रोग का इलाज चल रहा है तो उनको क्षय रोग कार्यालय में पंजीकृत कराएं। ताकि उन्हें बेहतर दवाएं निशुल्क मिलें और उनका इलाज करने के साथ ही उन्हें पोषण भत्ता दिलाया जा सके।जिले में वर्ष 2020 में शासकीय अस्पताल से 786 हितग्राही को 10.50 लाख रुपये व निजी अस्पताल के 113 हितग्राही को 1.90 लाख रुपये सहित कुल 899 टीबी मरीजों को निक्षय पोषण योजना के तहत 500 रुपये की राशि 6 माह तक हर महीने हितग्राही के खाते में आन लाइन जमा कराई गई है।

यहां कराएं जांच

जिले के डीएमसी में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, 6 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, 2 निजी अस्पताल में टीबी जांच की सुविधा उपलब्ध है। इसके अलावा उधा स्तरीय जांच के लिए जिला क्षय नियंत्रण केंद्र में सीबीनॉट मशीन से जांच की सुविधा उपलब्ध है। वर्ष 2020 में शासकीय संस्था से 524 टीबी के नये मामले सामने आए थे । वहीं प्राइवेट संस्था से 216 नये टीबी के केश खोजे गए थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags