दल्लीराजहरा। आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र विकास खंड डौंडी ब्लॉक क्षेत्रों के धान खरीदी केंद्रों के फड़ों में बोरों में रखे धान की छल्लियों में भी अंकुरण होने लगा है। बीते दिनों अनवरत रूप से हुई कई दिनों की बारिश का व्यापक असर पड़ा है। धान खरीदी केंद्रों के फड़ों(स्ट्रेक) में बोरों में रखी गई धान की छल्लियों से अंकुरण भी होने लगा है।

ऐसा तब हो रहा है जब कैप कवर से यह ढंका हुआ है। कई धान संग्रहण केंद्रों में रखा हुआ धान अब नमी और उमस के कारण धान अंकुरित होकर जरई व पौधे के रूप में तब्दील होने लगे हैं। कई जगहों में तो उनकी ऊंचाई तीन से छह इंच के बीच हो गई है। फिर से बारिश का पूर्वानुमान मौसमवेत्ता कर रहे हैं, ऐसे में प्राकृतिक आपदा के लिए समितियों को जिम्मेदार मानना उचित नहीं है, क्योंकि बरसात लंबे समय तक अनवरत रूप से होने तथा धूप न निकलने से यह स्थिति निर्मित हुई है। ऊपर से कहीं न कहीं परिवहन में लेटलतीफी इसका प्रमुख कारण माना जा रहा है। अंकुरण की शिकायत सात से आठ केंद्रों में देखने को मिल रही है। आमतौर पर अंकुरण पतले धान के स्ट्रेक में देखने को ज्यादा मिला है। पतले धान के उठाव करने में ही विपणन संघ तथा मिलरों ने देरी की है।

खरीदी के लिए बचे 14 दिन

मालूम हो कि बेमौसम बारिश व खराब मौसम के चलते इस साल समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी में पिछड़ चुकी है। बेमौसम बारिश के कारण धान की खरीदी जिले के सभी केंद्रों में प्रभावित रही, डाींडी ब्लाक नोडल अधिकारी ने बताया कि फिलहाल खरीदी जारी है। अंतिम तिथि तक अधिकांश किसानों के धान की खरीदी कर ली जाएगी।

धान की देरी से खरीदी कारण किसानों की परेशानी बढ़ीः विक्रम धुर्वे

सांसद प्रतिनिधि विक्रम धुर्वे ने कहा कि ने कहा है कि प्राकृतिक आपदा से पहुंचे क्षतिपूर्ति के लिए सीधे-सीधे समितियों को नुकसान की जिम्मेदार ठहराया जाना उचित नहीं है। ऐसे में सहकारी समितियों के लिए धान खरीदी का सौदा घाटे का हो जाएगा। सहकारिता से किसानों की सेवा किए जाने के उद्देश्य की पूर्ति नहीं होगी।इसलिए राज्य सरकार को चाहिए कि परिवहन में शीघ्रता लाते हुए समितियों से अविलंब किसानों से खरीदे गए धान का उठाव हो, नहीं तो आगामी पूर्व अनुमान के अनुसार यदि बारिश हुई तो खरीदी केंद्रों के फड़ों में रखा हुआ धान पूरी तरह से खराब हो जाएगा। खरीदी नुकसानी का सबब बनेगा। इसके लिए अविलंब परिवहन तथा रखरखाव व सुरक्षा व्यवस्था आवश्यक है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local