दल्लीराजहरा। आधुनिकता की अंधी दौड़ में आज बहुत कम लोग ऐसे हैं जो पशु-पक्षियों के दुःख-दर्द को समझते हैं। लोगों ने जहां आज जानवरों के आवास छीन लिए हैं, वहीं राजहरा के पक्षी प्रेमी महेश कुमार खोड़के विभिन्न चिड़ियों को अपने घर में संरक्षण दे रहे हैं। उन्होंने अपने घर के आंगन में लगे मौसमी, नींबू, आम और आंवले के पेड़ में दर्जनभर पक्षियों के लिए आशियाना बनाया हैं।

महेश कुमार बताया कि कई वर्षों से पक्षियों के लिए अपने आंगन में सकोरे में पानी व खाने के लिए दाने का इंतजाम करते आ रहे हैं। उन्होंने पक्षियों को देखकर लाकडाउन में खाली समय का उपयोग करते हुए उनके लिए आशियाना बनाने की सोची। नारियल के खोल में कलाकारी कर पक्षियों के लिए आशियाना तैयार किया। बाजार में उपलब्ध होने वाले छोटे-छोटे मटकों को भी सजा कर पक्षियों के लिए आशियाना बनाया। आंगन में लगे पेड़ों में इसे टांक दिया। जिसमें शाम होते ही

पक्षियां आकर रहने लगे। उन्होंने बताया कि पक्षी इसमें अंडे भी देते हैं और अंडों से चूजे भी निकलते हैं। जब चूजा बड़े हो जाते हैं तब यह पक्षी बधो को लेकर उड़ जाते हैं। फिर आशियाना में नए पक्षी अपना बसेरा बनाते है। इस तरह हमेशा इनका आना जाना लगा रहता है। पक्षियों के कलरव और उनके लिए ही बनाए गए आशियाने में पक्षी आते है तो देख कर मन उत्साह और उमंग से भर जाता है और लगता है कि हमारी मेहनत सफल हुई। वे इस कार्य को करने के लिए औरो को भी प्रेरित कर रहे हैं।

मिल चुका है श्रमश्री अवार्ड

महेश कुमार खोड़के बीएसपी के दल्लीराजहरा माइंस में इलेक्ट्रीशियन के पद पर कार्यरत हैं। माइंस के लिए इन्होंने कई माडल भी बनाएं। इन्हें सन 2018 में श्रम श्री अवार्ड जिसे प्रधानमंत्री अवार्ड कहा जाता है उपराष्ट्रपति के हाथों प्राप्त हो चुका है। इस कार्य में मिले सुकून को भी लोगों से शेयर किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local