दल्लीराजहरा(नईदुनिया न्यूज)। दल्ली राजहरा के विभिन्न खदानों में कार्यरत बीएसपी कर्मियों को जो कोविड-19 कोरोना वायरस से पीड़ित थे ऐसे कर्मियों को 30 दिन का स्पेशल लीव देने का प्रविधान है। बीएसपी प्रबंधन ने कोरोना प्रभावित होने पर उसका इलाज कराने के लिए कर्मियों को भले ही 30 दिन तक का स्पेशल लीव देने का प्रविधान किया है, लेकिन कोरोना से जुड़ी बीमारियों के इलाज के लिए इस तरह का प्रविधान नहीं किया गया। इस वजह से प्रभावित कर्मियों को अपने जमा अवकाश में से एडजस्ट करना पड़ रहा है।

दल्लीराजहरा में कार्यरत कर्मियों के भी कोरोना की चपेट में आने के बाद बीएसपी प्रबंधन ने इलाज के लिए स्पेशल लीव का प्रविधान कर रखा है। इसमें इलाज के लिए प्रभावित कर्मी 15 दिनों से लेकर एक महीने तक अवकाश ले सकता है। इस अवकाश को उनके जमा अवकाश से नहीं काटा जा रहा। इतना ही नहीं प्रबंधन ने यह भी प्रविधान कर रखा है कि यदि परिवार का कोई सदस्य कोरोना प्रभावित होने पर कर्मी को क्वारंटाइन के लिए भी स्पेशल लीव दिया जा रहा है। कोरोना के बाद चार महीने तक अस्पताल में भर्ती रहे, बावजूद 30 दिन अवकाश मिला। जिसके बाद अब जमा अवकाश से समायोजन करना पड़ रहा। प्रबंधन ने इसे लेकर अब तक स्पष्ट नहीं किया है, जिससे कर्मी परेशान हैं। पोस्ट कोविड में ब्लैक फंगस जैसी बीमारी शामिल हैं, जिसके इलाज की लंबी प्रक्रिया है और उसके लिए प्रबंधन खुद ही प्रभावित कर्मियों को बाहर इलाज के लिए रेफर कर रहा है। ऐसे में जब कर्मी इलाज के दौरान अवकाश के लिए प्रबंधन से स्पेशल लीव दिए जाने का आवेदन कर रहे हैं तो उन्हें यह कहकर लौटाया जा रहा है कि स्पेशल लीव का प्रविधान केवल कोरोना इलाज के लिए है। पोस्ट कोविड बीमारियों के इलाज के लिए नहीं। फिलहाल वे अपने जमा अवकाश में से ही छुट्टी के लिए आवेदन करें।

संदिग्ध मरीज स्पेशल लीव से वंचित किए जा रहे

स्पेशल लीव को लेकर पोस्ट कोविड मरीजों के साथ-साथ वे कर्मी भी परेशान हैं, जिनका इलाज तो पूरा कोरना का किया गया लेकिन रिपोर्ट में संदिग्ध कोरोना मरीज होने का उल्लेख कर दिया गया। इस वजह से उन्हें भी स्पेशल लीव का लाभ नहीं मिल पा रहा। इलाज के दौरान ली गई छुट्टियां अपने जमा अवकाश में समायोजित करना पड़ रहा है। कर्मियों की नाराजगी इस बात को लेकर है कि जब उनका इलाज कोरोना का किया गया तो प्रबंधन द्वारा स्पेशल लीव स्वीकृत क्यों नहीं की जा रही।

आश्रितों का सोसाइटी ने भी रोक दिया भुगतान

इधर कोरोना से मृत कर्मियों के आश्रितों की परेशानियां कम नहीं हो रही। अनुकंपा नियुक्ति का पेंच अभी भी फंसा हुआ है। जिसके कारण फाइनल पेमेंट की प्रक्रिया अटकी हुई है। वहीं कई आश्रितों की परेशानियां सोसाइटियों के कारण बढ़ गई है। बताया गया कि जो मृत कर्मी सोसाइटी में किसी साथी कर्मी को लोन दिलाने के लिए गारंटर बने थे, उनकी मौत के बाद सोसाइटी संचालक कर्ज लिए कर्मी से नया गारंटर लाने कह रहे है। नहीं ला पाने की स्थिति में सोसाइटी संचालक मृत कर्मियों के खाते से भुगतान रोक दिया है।

इंश्योरेंस क्लेम में भी परेशानी

इसके अलावा जिन कर्मियों ने अपने खर्च पर अलग से इंश्योरेंस कराया है, उसके क्लेम के लिए भी आश्रितों को बीमा कंपनी और बीएसपी के दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। बताया गया कि यदि मृत कर्मी का इलाज बीएसपी के सेक्टर-9 अस्पताल में हुआ है तो उस स्थिति में बीमा कंपनी क्लेम सेटलमेंट से जुड़े दस्तावेजों में सेल-बीएसपी का सील लगाए जाने पर ही भुगतान करने की बात कह कर आवेदकों को लौट रहे हैं। जबकि दस्तावेजों में मृत कर्मी जिस विभाग में कार्यरत रहा है, उसके पर्सनल विभाग की सील लगाकर दी जा रही है। बीएसपी कर्मियों ने कहा कि भिलाई इस्पात संयंत्र उनके साथ सोतैला व्यवहार ना करें उनके अधिकारों से वंचित ना करें

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags