बालोद (नईदुनिया न्यूज)। जिले के महामाया क्षेत्र के बेरोजगारों को खदान क्षेत्रों में रोजगार देने के लिए शिव सैनिकों ने शुक्रवार को एक दिवसीय धरना दिया। इस दौरान शासन-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की गई। शिवसैनिकों ने प्रशासन को चेताया कि यदि उनकी मांगों को जल्द पूर्ण नहीं किया गया तो महामाया से दल्ली तक पदयात्रा निकालेंगे, साथ ही बेरोजगारों के साथ अनिश्चितकालीन धरने पर भी बैठेगे।

शिवसेना के प्रदेश सहसचिव शंकर चेनानी ने कहा कि बालोद जिले का यह खनन प्रभावित क्षेत्र है और यहां रोजगार की कमी नहीं है। परंतु स्थानीय लोगों को रोजगार नहीं दिया जा रहा है। स्थानीय लोगों को दरकिनार कर बाहरी लोगों को रोजगार दिया जा रहा है। जिसके चलते स्थानीय बेरोजगारों को रोजी-रोटी की समस्या हो रही है। इस संदर्भ में शिवसेना लगातार शासन-प्रशासन को ज्ञापन देकर मामले से अवगत करा रहा है परंतु प्रशासनिक अधिकारियों के कान पर जूं नहीं रेंग रही है।

आगे निकालेंगे पदयात्रा

प्रदेश शिवसेना प्रवक्ता विक्की शर्मा ने कहा कि आगे हम पदयात्रा करेगे। क्योंकि शासन और प्रशासन इन गरीब आदिवासी क्षेत्रों के लोगों को की बात को नहीं मार रही है। यहां पर खनन एवं माइंस से निकलने वाले लाल पानी से प्रभावित लोग रोजगार के लिए भटक रहे हैं। खेतों में लाल पानी जमा होने से उपज भी प्रभावित हो रहा है। जिन लोगों को असल रूप से रोजगार देना चाहिए उन्हें अब तक रोजगार नहीं मिल रहा है। इसके साथ ही प्रदेश उपाध्यक्ष शिवराम केसरवानी ने कहा कि हम सभी शिवसैनिक लगातार बेरोजगारी के मुद्दे को उठा रहे हैं। कहा, जब तक हम स्थानीय लोगों को रोजगार नहीं दिलाएंगे तब तक हम सभी शिवसैनिक शांत नहीं बैठेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस