बालोद (नईदुनिया न्यूज)। जमीन दलाल अवैध प्लाटिंग की इस अंधी दौड़ में हरे भरे पेड़ों को काटने से गुरेज नहीं कर रहे हैं। जिला मुख्यालय में स्थानीय प्रशासन व राजस्व विभाग की अनदेखी से भूमाफिया प्लाटिंग के लिए पेड़ों को भी काट रहे हैं। जिला निर्माण के बाद शासकीय सेवक हो या बाहर रहने वाले लोग, शहर में या आसपास लगे क्षेत्रों में ही रहना चाहते हैं। इसके कारण आवासीय जमीन की मांग अधिक है। लोगों की इसी जरूरत का फायदा जमीन के अवैध रूप से खरीदी-बिक्री करने वाले लोग उठा रहे हैं। मामला जिला मुख्यालय के सरयू प्रसाद अग्रवाल स्टेडियम के पास और कुंदुरूपारा वार्ड क्रमांक 17 के एक खलिहान का है। जहां जमीन दलाल अब तक के सबसे बड़े रकबे में अवैध प्लाटिंग के गोरखधंधे को अंजाम देने की तैयारी में है।

बिना अनुमति आफिस का निर्माण

जिला मुख्यालय के सरयू प्रसाद अग्रवाल स्टेडियम के पास जमीन दलालों ने प्लाटिंग के इस गोरखधंधे को अंजाम देने के लिए आफिस भी बना लिया है। स्थानीय निकाय से निर्माण की कोई अनुमति नहीं ली गई है।

अवैध खनन की मिट्टी से समतलीकरण

बिना खनन अनुमति के बड़ी मात्रा में लाई गई मिट्टी से प्लाटिंग वाले हिस्से का समतलीकरण किया जा रहा है। हालांकि मिट्टी खनन पर कोई रायल्टी नहीं लगती है पर उसके लिए अनुमति जरूरी है। अब साधारण मिट्टी के खनन और परिवहन के लिए भी अनुमति लेना होता है। नियमावली में संशोधन के बाद अब मिट्टी खनन के लिए आनलाइन आवेदन करना आवश्यक हो गया है। नियम का उल्लंघन करने पर अवैध बालू खनन से संबंधित नियमों में कार्रवाई का प्रावधान है।

बड़ी मात्रा में रेत का भंडारण

अवैध खनन की मिट्टी से प्लाट को समतल करने वालें ने बड़ी मात्रा में रेत का भंडारण भी किया है। बताया जा रहा है कि रात के अंधेरे में तांदुला नदी से रेत पार कर लाई गई है। यहां चिह्लर बिक्री कर रहे हैं। राजस्व व खनिज विभाग के अधिकारी कार्रवाई नहीं करते हैं।

काट डाले बेशकीमती पेड़

पेड़ों के अंधाधुंध कटाई से जिला मुख्यालय का वातावरण प्रभावित हो रहा है। गर्मियों में पारा 48 डिग्री सेल्सियस को पार कर जाता है। आग उगलती जमीन और सिर पर सूर्यदेव की तपिश से बचने के लिए पेड़ों की छाया ढूंढी जाती है लेकिन शहर के चारों ओर हो रही पेड़ों की कटाई के कारण छाया दूर तक नसीब नहीं होगी।

बड़े भूमि विवाद की नींव डाल रहे दलाल

भूमाफिया बिना लेआउट के बड़े रकबे को छोटे-छोटे टुकड़ो में बेच रहे हैं, जहां मूलभूत सुविधा सड़क, बिजली, पानी, नाली आदि के लिए जगह ही नहीं बचे हैं। जिससे भविष्य मे खरीददारों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ेगा। कुछ ऐसा हाल शहर की अवैध कालोनियों में देखा जा सकता है। जहां मूलभूत समस्याओं का अंबार है। लोग सड़क, नाली, स्ट्रीट लाइट, पेयजल की समस्या से जूझ रहे हैं। गंदगी व असुविधा के बीच रहने को मजबूर हैं।

वर्जन

सरयू प्रसाद अग्रवाल स्टेडियम के पीछे बड़े रकबे पर अवैध प्लाटिंग का मामला जानकारी में है, जल्द ही इस पर कार्रवाई करेंगे

रामसिंग ठाकुर एसडीएम बालोद

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags