बालोद (नईदुनिया न्यूज)। जिले के गुरुर ब्लॅाक के भेजामैदानी गांव में शनिवार को देवी लक्ष्मी की पूजा कर दीप जलाया गया पर इसके ठीक दो दिन बाद यानी 16 नवंबर सोमवार को दीवाली मनाई गई। दीवाली के इस पर्व पर मेले जैसा माहौल रहता है। इस विशेष दीवाली को मनाने की खास वजह ग्रामीणों को भी नहीं मालूम है। सिर्फ इतना बताते हैं कि यह गांव की पुरानी परंपरा है। परंपरा को ग्रामीणों द्वारा आज भी जिंदा रखे हुए हैं। बड़े बुजुर्गों को ऐसा करते देखे हैं इसलिए आज भी दो दिन बाद त्योहार मनाते हैं। इस गांव की दीवाली का अलग ही महत्व है।

ग्रामीणों ने बताया कि पूर्वजों के अनुसार भेजामैदानी जमींदार का गांव था। जमींदार अन्य गांवों से दीवाली मनाकर दूसरे दिन यहां आते थे तब उस दिन यहां शाम को लक्ष्मी पूजा एवं गौरा-गौरी की पूजा होती थी और उसके अगले दिन यानी भाईदूज के दिन दीवाली हर्षोल्लोस से मनाई जाती थी। हालांकि अब जमींदारी प्रथा खत्म हो गई है लेकिन गांव की यह परंपरा बनी हुई है। ग्रामीण गांव की इस परंपरा को आज भी निभा रहे हैं।

गांव में आपसी भाईचारे की मिसाल

बालोद जिला मुख्यालय से 32 किलोमीटर की दूरी पर बसे भेजामैदानी गांव की जनसंख्या करीब दो हजार है। नाम के मुताबिक ही इस गांव के चारों तरफ मैदान ही मैदान है। यहां हिंदू व मुस्लिम दोनों वर्ग के लोग निवास करते हैं। हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल वाले इस गांव में सभी वर्ग और जाति के लोग निवास करते हैं। आपसी भाईचारे व सद्भाव के लिए पहचाने जाने वाले इस गांव में हर त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है॥

विशेष दीवाली पर लगता है मेला

ग्रामीणों ने बताया कि इस गांव की दीवाली पूरे राज्य में प्रसिद्घ है। जिस तरीके से यहां दीवाली मनाई जाती है ऐसी दीवाली और कहीं नहीं मनाई जाती है। सभी जगहों पर परंपरा प्रचलन में है, जो कि हर जगह मनाई जाती है। यहां इस दिन गांव में मेला लगता है। आसपास के लोग बड़ी संख्या में शामिल होते हैं। पूरे क्षेत्र में व्यवसाय की दृष्टि से संपन्न इस गांव में लोग कृषि के साथ ही साथ पशुपालन, मुर्गीपालन और अन्य व्यवसाय से जुड़े हैं। त्योहार की छुट्टी और खेती-किसानी काम बंद होने के कारण भी लोग बड़ी संख्या में मेले में पहुंचते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस