बालोद । राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद छत्तीसगढ़ रायपुर द्वारा संपूर्ण जिले में प्राचार्यों का विद्यालय नेतृत्व क्षमता विकास के लिए आनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। जिला शिक्षा अधिकारी के निर्देशानुसार प्रथम चरण में 12 से 14 जनवरी तक बालोद, गुरुर, डौंडी विकासखंड के 92 हाई व हायर सेकेंडरी स्कूल के प्राचार्य नेतृत्व प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। द्वितीय चरण में 15 से 17 जनवरी तक डौंडीलोहारा, गुंडरदेही विकासखंड के 81 हाई व हायर सेकेंडरी स्कूल के प्राचार्य शामिल होंगे।

छत्तीसगढ़ लीडरशिप अकादमी, एससीआरटी रायपुर और ट्रांसफार्म स्कूल्स नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में राज्य के समस्त 4640 प्राचार्यों के नेतृत्व क्षमता विकास के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार किया गया है, जिससे बदलते परिवेश के अनुरूप विद्यालय प्रमुखों के शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार व उन्नयन कार्य को प्रदर्शित किया गया है।

नेतृत्व क्षमता विकास प्रशिक्षण के जिला स्रोत प्रशिक्षक प्राचार्य अरुण कुमार साहू ने प्रशिक्षण सत्र का प्रारंभ स्वामी विवेकानंद जी की प्रार्थना व शैक्षिक विचारों से करते हुए कहा कि विद्यालय में व्यक्तिगत दक्षता व साझा दृष्टिकोण को लागू करने से उत्कृष्ट व क्रियाशील बनाया जा सकता है। स्रोत प्रशिक्षक प्राचार्य एसके राठौर ने विद्यालय नेतृत्व दक्षता पर चर्चा करते हुए कहा कि विद्यालय प्रमुख के विद्यालय के विकास का सपना व लक्ष्य होना चाहिए। स्रोत प्रशिक्षक प्राचार्य टीएस कोह्ले ने लक्ष्य की अवधारणा को स्पष्ट करते हुए कहा कि स्मार्ट गोल के माध्यम से भविष्य के स्कूल की तस्वीर को पहचाना जा सकता है।

बड़ी संख्या में मौजूद रहे प्राचार्य

उल्लेखनीय है कि प्रशिक्षण कार्यक्रम में बड़ी संख्या में प्राचार्य उपस्थित रहे। इस दौरान इन लोगों ने अपनी बातें विस्तार से रखी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local