दल्लीराजहरा। शुक्रवार से लौह अयस्क खदान समूह के संयुक्त खदान मजदूर संघ (एटक), भारतीय मजदूर संघ व इंटक ठेका कर्मचारियों के भत्ता व मेडिकल सुविधा की मांग को लेकर संयुक्त रूप से हड़ताल पर रहेंगे। यूनियन के पदाधिकारियों ने बताया कि बीएसपी प्रबंधन के नकारात्मक रवैये की वजह, सहयोग नहीं करने, मूलभूत सुविधा प्राप्त नहीं होने के कारण यह हड़ताल किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि दिसंबर 2021 को प्रबंधन को ज्ञापन सौंपकर ठेका कर्मचारियों की मांगों तथा सुविधाओं को तत्काल प्रदान करने के लिए अपनी मांगों के समर्थन में सात जनवरी 2022 से तीनों संगठन अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे।

इसके परिणामस्वरूप प्रबंधन ने छह जनवरी को तीनों श्रमिक संगठनों के साथ यह समझौता किया गया था। जिसमें ठेका कर्मचारियों को 150 भत्ता व मेडिकल सुविधा एक अप्रैल से प्रदान की जाएगी। लेकिन आज तक प्रबंधन ने किसी प्रकार का निर्णय ठेका श्रमिकों के हित में नहीं लिया। जबकि तीनों श्रम संगठनों ने 14 जून को ही प्रबंधन को लिखित पत्र देकर 30 तारीख तक ठेका श्रमिकों की दोनों मांग पुरी नहीं होने की स्थिति में हड़ताल पर जाने की बात कही थी।

पत्र मिलने के बाद प्रबंधन के साथ तीनों श्रम संगठनों की लगातार बातचीत हुई मगर प्रबंधन हर बार आजकल की निती में लगा रहा। और भिलाई यूनियन चुनाव के बाद इसे लागू करने की बात कही, उसके बाद भी श्रम संगठनों ने प्रबंधन के साथ बातचीत जारी रखी और नौ अगस्त को उसमें यह सफलता मिली कि ठेका श्रमिकों को परिवार सहित मिलने वाले मेडिकल सुविधा में अब बीएसपी प्रबंधन द्वारा ठेका श्रमिकों का किसी भी प्रकार का अंशदान नहीं काटा जाएगा।

दिल्ली में 10 तारीख को बोर्ड की बैठक है इसके बाद ठेका श्रमिकों को देने के लिए आदेश जारी कर दिया जाएगा। प्रबंधन के अधिकारी अपने उधा अधिकारी की अनुपस्थिति का बाहाना बनाकर फिर टालमटोल करने में लगे हुए हैं। जो कि काफी खेदजनक है और प्रबंधन की वादाखिलाफी है । इसी लिए तीनों श्रम संगठनों ने पहले ही प्रबंधन को हड़ताल का नोटिस दिया जा चुका है। एक अप्रैल से एरियर्स के साथ भत्ते का भुगतान करवाने और ठेका श्रमिकों को परिवार सहित मेडिकल सुविधा प्रारम्भ कराने और उसमें ठेका श्रमिकों से किसी प्रकार की राशि नहीं लिए जाने के लिए हड़ताल पर रहेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close