राजपुर(नईदुनिया न्यूज)। बलरामपुर जिले के राजपुर विकासखंड क्षेत्र में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत निर्मित सड़कें गारंटी अवधि में ही खस्ताहाल हो जा रहे हैं। अंबिकापुर- रामानुजगंज राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित ग्राम बघिमा से बदौली तक 13 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण पौने दो करोड़ से भी अधिक राशि खर्च कर कराई गई है, लेकिन सड़क का बड़ा हिस्सा गड्ढों में तब्दील हो चुका है। सड़क पूरी तरीके से उधड़ चुकी है। विभागीय अधिकारी अब अब दावा कर रहे हैं कि ठेकेदार को संपूर्ण राशि का भुगतान नहीं किया गया है। सड़क गारंटी अवधि में है, यदि ठेकेदार द्वारा सड़क का मरम्मत नहीं कराया जाता है तो शेष बची राशि से मरम्मत का कार्य पूर्ण कराया जाएगा।

बघिमा से बदौली के बीच लगभग आधा दर्जन गांव पड़ते हैं। इन गांवों में सब्जियों के अलावा गन्ने की खेती की जाती है। इन गांवों में रहने वाले लोगों को सुलभ आवागमन की सुविधा उपलब्ध कराने की मंशा से वर्ष 2015 में राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित बघिमा से बदौली तक 13 किलोमीटर सड़क निर्माण की मंजूरी प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत दी गई थी। क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों की मांग पर सड़क निर्माण की मंजूरी मिलने से गांववाले भी उत्साहित थे। एक करोड़ 77 लाख 39 हजार रुपये की लागत से सड़क का निर्माण एक वर्ष में पूरा किया जाना था, लेकिन 10 माह में ही सड़क बना दी गई, लेकिन गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा गया। सड़क बने अभी चार वर्ष भी नहीं हुए हैं और यह सड़क जगह-जगह से उधड़ चुकी है। कई स्थानों पर बड़े-बड़े गड्ढे बन चुके हैं। हल्की बारिश में ही जल निकासी का प्रबंध नहीं होने से गड्ढों में पानी भर जाता है। मौसम खुलते ही धूल के कारण लोग परेशान रहते हैं। दोपहिया और चार पहिया वाहनों से आवाजाही में परेशानी होती है। लंबे इंतजार के बाद चकाचक पक्की सड़क बनने से आवागमन में हो रही सुविधा अब बाधित हो चुकी है। लोग घटिया निर्माण का आरोप लगा रहे हैं। क्षेत्रवासियों का कहना है कि निर्माण के दौरान जिम्मेदार अधिकारियों की गैर मौजूदगी और तकनीकी मानकों का पालन नहीं करने के कारण ही सड़क की दुर्गति हुई है।

इन गांवों को जोड़ती है सड़क

बघिमा से बदौली मार्ग में डकवा, खुखरी, कुंदीकला, शिवपुर, रेवतपुर, धंधापुर, उधवाकठरा, परसवारकला आदि पड़ते हैं। इसी मार्ग से होकर इन गांवों की हजारों की आबादी को ब्लाक व जिला मुख्यालय आनाजाना पड़ता है। मुख्यमार्ग से एक किमी दूर डकवा में बलरामपुर जिले का धान संग्रहण केंद्र भी है। यहां भी ट्रकों का आनाजाना लगा रहता है।

सड़क गारंटी अवधि में है। गारंटी पीरियड में सड़क सुधार का सारा जिम्मा ठेका कंपनी का है। यदि ठेकेदार द्वारा निर्देश के अनुरूप सड़क का मरम्मत सही तरीके से नहीं कराया गया तो जो भुगतान रोक कर रखा गया है, उस राशि का उपयोग सड़क मरम्मत के लिए कराया जाएगा।

वाइके शुक्ला

कार्यपालन अभियंता, पीएमजीएसवाई

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close