बलरामपुर-रामानुजगंज (नईदुनिया न्यूज)। रामानुजगंज में लॉकडाउन के तीसरे दिन भी सन्नाटा पसरा रहा। जरूरी सेवाओं की दुकानें निर्धारित समय में खुलने के बाद फिर बंद हो गई। सड़कों में भी आवाजाही नहीं के बराबर रही। इलाके के ग्राम पंचायतों में भी यही स्थिति है। ग्रामीण इलाके के लोगों ने बाकायदा सड़क पर सफेद पेंट से लिखकर क्षेत्र को दूसरे लोगों के लिए प्रतिबंधित कर दिया है।

कन्हर नदी के समीप जांच बैरियर को सील किए जाने से बैरियर और पुल पर पूरी तरह से सन्नाटा छाया है। क्षेत्र में लॉकडाउन के बाद भी कुछ दुकानदार शटर गिराकर अंदर से ग्राहकों को सामग्री दे रहे हैं। इसकी शिकायत पर नगर पंचायत ने एक पान ठेला को सील कर दिया है। सब्जी मंडी में पांच-पांच मीटर की दूरी पर माकिर्ग करते हुए घेरा बनाकर उसी में बैठ बिक्री करने कहा गया है। गुरुवार को लॉकडाउन के तीसरे दिन किराना दुकानदारों द्वारा महंगे दामों में खाद्यान्न पदार्थ की बिक्री की जा रही थी। इधर वायरस के संक्रमण से बचने नगर पंचायत ने सभी 15 वार्डो में कीटनाशक दवा एवं ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कराया।

नगर में महंगे होने लगे खाद्य पदार्थ -

21 दिनों तक लॉकडाउन किए जाने के बाद नगर की सब्जी एवं किराना दुकानों सुबह आठ बजे से दोपहर 12 बजे तक खोले जाने के आदेश के बाद गिनती के घंटों में लोग सामान खरीदने बाजार में निकल रहे हैं। लोगों को इस बात की नाराजगी है कि उन्हें पहले की अपेक्षा काफी महंगे दामों में खरीदी करनी पड़ रही है। होलसेलर की जमाखोरी से और उनके ऊपर प्रशासन का कोई शिकंजा नहीं कसने से उनके मनोबल बढ़े हैं। एसडीएम अभिषेक गुप्ता ने कहा कि हमें भी कई लोगों से महंगे दामों पर सामान खरीदने की शिकायत मिली है। इसका पता लगाया जा रहा है। यदि ऐसा हुआ तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने कहा कि हम लोगों ने घर पहुंचे सेवा के नाम पर विकासखंड स्तरीय बिहान मार्ट सेवा खोला है। बलरामपुर, रामानुजगंज, वाड्रफनगर, राजपुर, शंकरगढ़, कुसमी में सामानों की खरीदी के लिए बाकायदा मोबाइल नंबर भी जारी किए गए हैं, ताकि लोग सीधे इनसे संपर्क करके 24 घंटे के भीतर राशन, किराना सामग्री घर मंगा सकते हैं।

लॉकडाउन में गांव में आना-जाना प्रवेश दंडनीय

नगर ही नहीं बल्कि ग्राम पंचायत के लोग कोरोना वायरस का संक्रमण न हो इस बात को लेकर चिंतित हैं। उन्हें भी चिंता सता रही है कि कहीं यह बीमारी यहां न फैल जाए। ग्राम पंचायत भंवरमाल में तो बाहरी व्यक्तियों के गांव में घुसने पर मनाही लगा दी गई है। इसके लिए बाकायदा सड़कों पर सफेद पेंट से लिखा है कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से यदि कोई इस ग्राम पंचायत में जबरन घुसता है तो उनके विरूद्ध दंडनीय कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket