जगदलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। डेंगू के कहर से शहर के लोग जूझ रहे हैं वहीं विपक्षी दल भाजपा के नेता इस मुद्दे पर निगम और स्वास्थ्य प्रशासन को घेरने से पहले आपस में ही भिड़ गए हैं। डेंगू पर नियंत्रण में निगम प्रशासन को फेल बताते हुए शनिवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) ने संजय मार्केट में धरना देने निर्णय लिया है। इसके एक दिन पहले धरना की तैयारी को लेकर शुक्रवार को भाजपा जिला कार्यालय में हुई बैठक में भाजपा नगर मंडल और भाजयुमो पदाधिकारियों के बीच जमकर तू-तू, मैं-मैं हुई।

नगर मंडल के अध्यक्ष सुरेश गुप्ता व एक दो अन्य पदाधिकारियों का कहना था कि धरना आयोजित करने का निर्णय लेने से पहले भाजयुमो ने नगर मंडल को सूचना नहीं दी न ही संगठन के पदाधिकारियों को विश्वास में लिया। इस पर भाजयुमो के पदाधिकारियों का कहना था जिला अध्यक्ष रूपसिंह मंडावी से अनुमति लेने के बाद ही धरना की तिथि तय की गई है।

ज्ञात हो कि शहर में फैली डेंगू की बीमारी पर नियंत्रण में कांग्रेस शासित निगम पर असफल होने का आरोप लगाते हुए भाजयुमो ने जिला भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों से चर्चा कर चार दिन पहले ही स्थानीय प्रशासन को सूचना दे दी थी। विवाद भी उसी समय शुरू हो गया था। बताया गया कि नगर मंडल के अध्यक्ष ने भाजयुमो द्वारा धरना का निर्णय लेने से पहले सूचना नहीं देने का आरोप लगाते हुए संगठन के संभागीय प्रभारी शिवरतन शर्मा से फोन पर शिकायत कर दी थी।

शिवरतन शर्मा के पास मामला पहुंचने के बाद उन्होंने जिला भाजपा के नेताओं से चर्चा कर विवाद को सुलझाने का निर्देश दिया था। शुक्रवार की बैठक धरना की तैयारी को लेकर बुलाने की बात भले की भाजपा के नेता कह रहे हैं लेकिन वास्तव में बैठक विवाद सुलझाने के लिए बुलाई गई थी। बैठक में शामिल एक दो नेताओं से चर्चा करने पर नाम नहीं छापने की शर्त पर बैठक में एक दसरे शब्दबाणों की बात खुलकर सामने आ गई।

एक नेता का कहना था कि शिवरतन शर्मा से शिकायत करने से पहले जिला प्रभारी लोकेश कावड़िया, जिला अध्यक्ष रूपसिंह मंडावी के संज्ञान में मामले को लाना था पर ऐसा नहीं किया गया। उधर भाजयुमो अध्यक्ष अविनाश श्रीवास्तव व मोर्चा के अन्य पदाधिकारियों का कहना था कि मोर्चा द्वारा लगातार सत्ता पक्ष के विरोध मेें प्रदर्शन व पार्टी संगठन द्वारा सौंपे गए कार्यों को पूरा किया जा रहा है।

मुद्दा उठाने में परेशानी क्या है: पांडे

नईदुनिया को बैठक में शामिल नेताओं से चर्चा में मिली जानकारी के अनुसार वरिष्ठ नेता सुधीर पांडे का कहना था कि पार्टी का कोई भी अनुषांगिक संगठन यदि प्रदेश सरकार और स्थानीय प्रशासन अथवा निगम द्वारा जनकल्याण के विषयों पर ध्यान नही देने के विरोध में आवाज उठाता है तो इसमें परेशानी क्या है? उन्होंने कहा कि यह ऐसी स्थिति ठीक नहीं है।

जिला संगठन को सूचना देकर व अनुमति प्राप्त कर अनुषांगिक संगठन आंदोलन कर सकते हैं। जिला महामंत्री व नगर मंडल प्रभारी रामाश्रय सिंह जनता के हित में मुददे कोई भी उठा सकता है। दोनों पक्षों की सुूनने के बाद जिला अध्यक्ष रूपसिंह मंडावी ने सख्त शब्दों में नेताओं को आगे से विवाद खड़ा नहीं करने को कहा। साथ ही नगर मंडल और मोर्चा के पदाधिकारियों को समझाइश भी दी।

बैठक में नेता प्रतिपक्ष नगर निगम संजय पांडे, आलोक अवस्थी, नरसिंह राव, योगेंद्र पांडे सहित आधा दर्जन से अधिक पार्षद व नगर व जिला भाजपा के अनेक प्रमुख पदाधिकारी शामिल थे।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close