देवकर/बेरला। नईदुनिया न्यूज

प्रदेश की पहचान छत्तीसगढ़ी पारंपरिक व सांस्कृतिक सुआ नृत्य गीत की परंपरा धीरे-धीरे विलुप्ति के कगार पर है। दशहरा पर्व के बाद से ही घरों में सुआ नर्तक दलों की दस्तक शुरू हो जाती थी, जो अब बहुत ही विरल दिखाई पड़ रही है। हालांकि पुरानी परंपरा और सभ्यता के अनुसार बड़ों की जगह बच्चों को सुआ नृत्य के लिए घर-दुकानों में घुमते देखा जा सकता हैं। लेकिन यह परंपरिक सुवा नृत्य विलुप्त होती जा रही है। जिसका ताजा उदाहरण एक समय में नगर देवकर और बेरला सहित आसपास के परिक्षेत्रीय ग्रामीण इलाकों में दीपावली पर्व के पूर्व सुआ नृत्य की हलचल व धूम दिखाई पड़ती थीं।

अब के दिनों में यही कही कही एकल जगहों पर दिखाई पड़ रही है। जिसका जिम्मेदार आज की पीढ़ियां अपना ज्यादातर समय मोबाइल व अन्य साधनों पर बिता रहे है। इसके चलते इसका व्यापक असर छोटे बच्चों पर भी पड़ रहा है। आलम यह है कि नगर-गांव लगभग सभी जगहों पर अब सुआ नृत्य गीत को लेकर लोग उतने उत्साहित नहीं है। जितने पहले के लोग हुआ करते थे। एक प्रकार से देखा जाए तो सुआ के लिए बच्चों में रूचि साल-दर साल कम हो रही है।

उल्लेखनीय है कि बेरला विकासखंड और देवकर समीपस्थ परिक्षेत्र के गांवों में दशहरा के बाद से ही सुआ नर्तक दलों की मौजूदगी नजर आती थी, लोग स्वयं होकर नर्तक दलों को घर के सामने और आंगन में नचाते थे। त्योहार की खुशी जाहिर करने की यह एक परंपरा है। नर्तक दलों को लोग अपनी क्षमतानुसार रुपये, अनाज देते थे। बुजुर्गों का यह भी कहना है कि पृथक राज्य बनने के बाद जहां छत्तीसगढ़ी लोककला संस्कृति को प्रोत्साहन मिलना था, वहां से अब अन्य प्रांत के लोककला, संस्कृति का अधिक महत्व देखा जा रहा है। इधर नवरात्र पर दुर्गा पूजन की परंपरा है। अब इसमें गरबा उत्सव भी देखा जा रहा है। लगातार इसका प्रचलन बढ़ रहा है, हालांकि इसमें कोई बुराई नहीं, लेकिन ऐसे आयोजनों पर जैसी भव्यता होती है, खर्च किए जाते हैं। उस तरह से सुआ नृत्य पर फोकस नहीं किया जाता। बुजुर्गों के अनुसार पहले महिलाएं पारंपरिक वेशभूषा में सुआ नृत्य के लिए बड़ी संख्या में पहुंचती थीं। लेकिन कुछ अर्से से अब यह परंपरा बच्चियों तक सीमित देखी जा रही है। हालांकि ग्रामीण क्षेत्र में सुआ नृत्य के लिए बच्चियों के अलावा महिलाओं का समूह निकलता है। गीत गाकर और ताली बजाकर नृत्य करते हैं। लेकिन गांवों में यह प्रथा अब कम नजर आती है।

Posted By: Nai Dunia News Network