बेमेतरा। National Bravery Awards 2022 भारतीय बाल कल्याण परिषद नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2022 की घोषणा हो चुकी है। जिसमें छत्तीसगढ़ के साहसी बच्चे में शामिल है। इसी कड़ी में बेमेतरा जिले के थानखम्हरिया तहसील के ग्राम चुहका निवासी 14 साल के सीताराम यादव का चयन भी किया गया है। सीताराम को 26 जनवरी 2023 गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से नवाजा जायेगा। 17 से 26 जनवरी 2023 तक आयोजित कार्यक्रम में उपस्थिति के लिए सीताराम अपने पिता के साथ 16 जनवरी को दिल्ली रवाना हो गया है।

दरअसल, समीपस्थ ग्राम चुहका की दो बालिकायें 19 अगस्त 2022 की सुबह डोटू नदी में नहाते समय पानी के तेज बहाव में बह गयी थी। बालिकाओं की चीख सुनकर पास ही गोठान में काम कर रहे साहसी बालक सीताराम यादव ने जान की परवाह न करते हुए नदी में छलांग लगा दी। एक बालिका को बहने से बचा लिया। वहीं 500 मीटर दूर झाड़ी में अटकी दूसरी बालिका को भी उसने बाहर निकाला। परंतु उसे बचाया नहीं जा सका था। कक्षा नौवीं में अध्ययनरत बालक सीताराम यादव ने अपनी जान जोखिम में डालकर साहसिक कार्य किया। जिसके लिए उसको यह पुरस्कार दिया जा रहा है।

प्रशंसा के योग्य सीताराम

सीताराम के इस कार्य की क्षेत्र में काफी प्रशंसा हुई थी। इस बालक का पूर्व में छत्तीसगढ़ श्रमजीवी पत्रकार संघ, ब्लाक कांग्रेस कमेटी थानखम्हरिया, वत्सला फाउण्डेशन सहित विभिन्न समाजिक संगठनों ने सम्मान किया था। वर्ष 2022 में साहसिक कार्य के लिए राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार योजना के लिए बालक सीताराम यादव के नाम की अनुशंसा कलेक्टर बेमेतरा जितेन्द्र कुमार शुक्ला द्वारा की गई थी। राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 26 जनवरी 2023 के लिए चयनित किये जाने पर जिला प्रशासन बेमेतरा, शिक्षकों, बालक के परिजनों और क्षेत्रवासियों ने बालक को बधाई प्रेषित की है।

Posted By: Vinita Sinha

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close