बेमेतरा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। एक दिन पहले डीसीबी बैंक कर्मी राजन प्रसाद के द्वारा किसान रजनेश पटेल पर उसके स्वजन के साथ किए गए दुर्व्यवहार व जान से मारने की धमकी की शिकायत पर दूसरे दिन गुरुवार को डीसीबी बैंक के कर्मचारियों को थाने तलब किया गया। थानखम्हरिया थाना प्रभारी ने मामले की गंभीरता को समझते हुए बैंक कर्मियों का बयान लिया। बैंक कर्मियों ने किसी प्रकार की अभद्रता किसान एवं उसके परिवार के लोगों के साथ नहीं करने की बात कही।

हालांकि इस संबंध में अभी किसान रजनेश पटेल का बयान थाना में होना बाकी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बैंक कर्मी थाने में बयान देने के बाद किसान के घर पहुंचे थे। उन्होंने अपनी हरकत को लेर माफी भी मांगी। इससे बैंक कर्मियों का दोहरा चरित्र सामने आ रहा है। थाने में किसी तरह की अभद्रता की बात इन्कार किया और दूसरी तरफ किसान परिवार के घर में जाकर किसान से माफी भी मांगी। सूत्र कहते हैं कि पूरे घटनाक्रम पर नजर दौड़ाई जाए तो तो निश्चित रूप से किसान को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने की बात से इंकार नहीं किया जा सकता। पीड़ित किसान के बयान के बाद पुलिस इस मामले पर क्या कार्रवाई करेगी, यह बायन के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा।

बैंक में हड़कंप

किसान रजनेश पटेल के साथ हुए घटनाक्रम और उसके बाद बैंक कर्मचारियों को थाने में तलब कर बयान लेने के बाद से बैंक में हड़कंप की स्थिति है। सूत्र कहते हैं कि बैंक प्रबंधन जैसे तैसे किसान को विश्वास में लेकर मामले को रफा-दफा करने के प्रयास में लगा। बैंक प्रबंधन प्रयास कर रहा है कि किसान जैसे भी हो अपनी शिकायत वापस ले ले। बता दें कि किसी किसान के साथ इस तरह की जिले में यह कोई पहली घटना नहीं है। और भी किसानों के साथ वसूली के लिए दुर्व्यवहार, मानसिक रूप से प्रताड़ित करने की बात सामने आ चुकी है, लेकिन किसान ऐसे मामलों को अपने तक दबाए रखे हुए हैं।

किसान का बयान बाकी

इस मामले में थानखम्हरिया के थाना प्रभारी नासिर खान ने कहा-किसान रजनेश पटेल की शिकायत के आधार पर बैंक कर्मियों का बयान लिया गया। शिकायतकर्ता किसान का बयान अभी होना बाकी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local