बेमेतरा(नईदुनिया न्यूज)। एक पखवाड़े से भी ज्यादा समय से लगातार आसमान में बादल छाए रहने की वजह से किसानों को खासा परेशान देखा जा रहा था। दो-तीन दिन पहले अंचल में कुछ बूंदाबांदी तथा बारिश के कारण रबी फसल उत्पादक किसानों तथा सब्जी उत्पादक किसानों के माथे पर चिंता की लकीर खींच दी थी, लेकिन अब दो दिनों से जिस तरह से आसमान में छाई बदली हट गई है, जिससे किसानों ने राहत की सांस ली है। उल्लेखनीय है कि जिले में रबी फसल तो लगाई गई है, लेकिन यहां बड़े रकबे में किसानों द्वारा अरहर की फसल भी ली गई है। अरहर की फसलों में इन दिनों मौसम की अनुकूलता के चलते खेतों में लहलहा रही है। अरहर की फसल पर पीले पीले फूल लोगों को आकर्षित करते हुए नजर आ रहे हैं, जिससे किसान उत्साहित हैं।

इससे पहले यह बताना लाजिमी होगा कि बेमौसम बारिश तथा बाढ़ के चलते किसानों को इन फसलों में नुकसान भी उठाना पड़ा है तथा एक बड़े रकबे में अरहर की फसल में काफी क्षति भी उठानी पड़ी है, क्योंकि शिवनाथ नदी के किनारे बाढ़ की चपेट में आने से फसल पानी में डूब जाने की वजह से पूरी तरह से तबाह भी हो चुके है। वहीं राजस्व विभाग द्वारा सर्वे कर इसकी जानकारी राज्य शासन को भेज दी गई है, किंतु अब तक किसानों को हुई क्षति की किसी तरह की भरपाई मिल हो पाई है, उसके बाद में जिस तरह से बची हुई फसल देखने को मिल रही है, वह किसानों के लिए एक अच्छा संकेत है और किसान अच्छे उत्पादन की उम्मीद करने लगे हैं। साथ ही साथ इसी तरही की मौसम की उम्मीद भी लगा बैठे हैं।

सब्जियों की भी आवक बढ़ी

रबी फसल के साथ-साथ जिले के सब्जी उत्पादक किसानों ने भी मौसम के बिगड़े मिजाज के बाद मौसम सामान्य होने के बाद एक तरह से राहत की सांस ली है तथा अब स्थानीय स्तर में भी बाजार में पर्याप्त मात्रा में लोकल सब्जियों की आवक भी बढ़ गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस