बेमेतरा। अचानक वर्षा के ब्रेक हो जाने के चलते कई तरह की दिक्कतों का सामना अब किसानों सहित आम लोगों को करना पड़ रहा है। वर्षा के थम जाने से जहां किसान फसलों को बचाने के लिए पंपों का सहारा ले रहे हैं। वहीं लगातार ग्रामीण अंचलों में सभी पंप चालू हो जाने के चलते जहां लो वोल्टेज व अघोषित बिजली कटौती सहित और भी कई तरह की दिक्कतों का सामना इन दिनों किसानों को करना पड़ रहा है। खेत में लगे पंपों का हाल यह है कि महज कुछ घंटे लाइट आने के बाद भी लो वोल्टेज के चलते पंप चल नहीं पा रहे हैं। 5 एचपी के मोटर में एक एचपी के लेबल का पानी भी नहीं निकल पा रहा है हालांकि इस तरह के हालात कएक गांव के नहीं बल्कि अंचल के लगभग सभी गांव में देखने को मिल रहा है। एक ओर जहां लो वोल्टेज के चलते पंपों से पानी तो निकल ही नहीं पा रहा है वहीं लो वोल्टेज के बने हालात के चलते लगातार पंप भी जवाब देने लगे हैं। कई किसान के पंप जल भी गए हैं।

जैसे तैसे किसान अपनी फसलों को बचाने के लिए पूरी ताकत तो लगा रहे हैं पर मौसम की बेरुखी और बिजली के अघोषित कटौती के साथ-साथ लो वोल्टेज की बनी समस्या इन दिनों किसानों की रातों की नींद उड़ा दी है। जैसे ही रात में लाइट आती है लोग घर से निकल कर खेतों की ओर भागते हैं। पंप को चालू करना चाहते हैं पर हमेशा की तरह लो वोल्टेज के बने हालात किसानों को न केवल निराशा ही कर रहे हैं बल्कि उनकी दिक्कतों को और भी बढ़ा रही है।

विदित हो कि लगभग 10 दिनों से जिले में वर्षा हो नहीं पाई है। वहीं धान के पौधों को पानी की आवश्यकता बढ़ते ही जा रही है। ऐसी स्थिति में जहां खेतों में पर्याप्त पानी होनी चाहिए वहां अब खेतों में सिर्फ दरारें ही नजर आ रही है। जहां मौसम की बेरुखी ने किसानों को नजरअंदाज तो किया है वहीं रही सही कसर विद्युत विभाग के अघोषित कटौती और लो वोल्टेज की समस्या ने किसानों की परेशानी को और भी बढ़ा दी है। बहरहाल हालात यहां तक पहुंच चुका है की खेतों में न तो पंप ही चल पा रहे हैं ना ही घरों में पंखे चल पा रहे। किसानों को खेतों से राहत मिल रही है और न हीं घरों में गर्मी और उमस से ही राहत मिल रही है। बहरहाल उन तमाम हालातों के चलते वर्षा के थमने और मौसम में बढ़ रही उमस ने आम जनजीवन को भी खासा प्रभावित कर रखा है। अब किसानों की उम्मीद टिकी हुई है तो वह है पर्याप्त वर्षा पर वहीं दूसरी ओर मौसम के मिजाज के बदलने से आम लोगों के स्वास्थ्य पर भी इसका विपरीत असर पड़ रहा है और सर्दी खांसी और वायरल के मरीजों में भी बढ़ोतरी होने लगी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close