बेमेतरा। नईदुनिया न्यूज

कलेक्टर महादेव कावरे ने शासन द्वारा निर्धारित मूल्य पर धान खरीदी के संबंध में केंदों के प्रबंधकों एवं फड़ प्रभारियों को निर्देश दिए है कि वे केवल वास्तविक किसानों का ही धान बोए गये रकबे के हिसाब से धान उपार्जन का कार्य करें। कलेक्टर ने समिति प्रबंधकों को कड़े शब्दों में निर्देशित किया कि अवैध और कोचियों से धान खरीदने पर समिति प्रबंधकों के विरूद्घ कड़ी कार्यवाही की जायेगी। कलेक्टर ने सभी समिति प्रबंधकों को निर्देश दिए कि धान खरीदी के शेष 16 दिनों में किसानों से उपार्जन केन्द्र में धान लाने वाले किसानों को टोकन जारी करने के पूर्व इसका सत्यापन संबंधित पटवारी एवं राजस्व निरीक्षक द्वारा किया जायेगा, इसके उपरांत ही उन्हें टोकन जारी करें।

कलेक्टर ने किसानों से भी अपील की कि वे अपने खेतों में धान के बोए गये रकबे के हिसाब से ही शासन के निर्धारित मूल्य पर धान विक्रय करें। उन्होंने कहा कि किसान अपनी ऋण पुस्तिकाओं का उपयोग किसी अन्य व्यक्ति के धान बेचने के लिए कदापि न करें। अवैध रूप से धान बेचने की सूचना मिलने पर ऐसे किसानों के धान के रकबे की जांच के साथ बेचे गये धान की भी जांच कराई जा सकती है। कलेक्टर ने कहा कि अवैध रूप से धान बेचना प्रमाणित होने पर उन पर नियम अनुसार कार्यवाही भी की जा सकती है। समिति में कार्यरत हमालों तथा लगे तौल कांटों की भी जांच. करें। समितियों में एक ही दिन में अपनी स्थापित तौल क्षमता से अधिक धान खरीदना पाया जाने पर समिति प्रबंधक के विरूद्घ कार्यवाही की जायेगी। कलेक्टर ने जिले के सभी चार विकासखंडों बेमेतरा, बेरला, साजा एवं नवागढ़ के धान खरीदी केंद्रों में पर्यवेक्षण एवं नियंत्रण करने तथा उपार्जित धान के भुगतान, बारदाने एवं परिवहन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए।

Posted By: