बेमेतरा (नईदुनिया न्यूज)। बीते दो से तीन दिनों में हुई वर्षा के हालात के चलते अंचल में नदी-नालों के उफान के चलते स्थिति भयावह होते जा रही है। हालांकि शिवनाथ नदी में पानी स्तर कम होने के चलते अब बंद रास्ते जहां खुल चुके हैं। वहीं हाफ नदी, सकरी नदी एवं अन्य नाला के उफान में आने के चलते जहां कई गांव में पानी भर चुका है वहीं रेस्क्यू के लिए राजस्व की टीम भी जुटी है। प्रशासन हालात पर नजर बनाए हुए हैं। दाढ़ी अंचल के नदियों में बाढ़ की स्थिति हुई भयवाह हो गई है। जिला और पुलिस कर्मियों ने बाढ़ से प्रभावित परिवारों के लिए दाढ़ी के शासकीय कन्या हाई स्कूल को अस्थायी राहत शिविर बनाया है।

आने वाले में दिनों में भारी वर्षा की चेतावनी दी गई है। संकरी नदी,फोक नदी एवँ हाफ नदी में उफान से दाढ़ी के करीब आधी बस्ती में बाढ़ का पानी पहुंचा है। जिला प्रशासन से राजस्व विभाग के नायब तहसीलदार आशुतोष गुप्ता, रेस्क्यू टीम एवं पुलिस अनुविभागीय अधिकारी राजीव शर्मा के नेतृत्व में बाढ़ वाले क्षेत्रों में व्यवस्था की जा रही है।

जिला एवं पुलिस प्रशासन की ओर से रेस्क्यू टीम का नेतृत्व कर रहे तहसीलदार आशुतोष गुप्ता, एसडीओपी राजीव शर्मा, आरआई खरे, टी आई पुष्पेंद्र भट्ट,पटवारी अंकित गुप्ता, सनत मंडावी,परस साहू,लक्ष्मीकांत वर्मा,मेघराज पटेल, कोटवार श्याम दास, बृजेश,सचिव होमन टंडन, आरक्षक अनिल, मुकेश कुर्रे शुक्रवार को दिन भर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सक्रिय थे। इसी तरह की स्थिति ग्राम मझगांव से होकर गुजरने वाली हाफ नदी में भी भारी बाढ़ होने से ग्राम मजगांव, ग्राम बैहरसरी स्थित उधा स्तरीय पुल तथा इसी गांव के आसपास के करीब एक दर्जन से अधिक गांव के खेत-खलियान में पानी भर जाने से धान की खड़ी फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गई है। नायाब तहसीलदार आशुतोष गुप्ता ने बताया कि जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण और अवलोकन किया जा रहा है। क्षतिग्रस्त मकानों का सर्वे भी प्रारंभ हो गया है। राजस्व विभाग के द्वारा पटवारियों की टीम इस कार्य में लगाई गई है। जो नुकसान का जानकारी एकत्र कर रहे हैं। शीघ्र ही क्षतिपूर्ति राशि के लिए जिला प्रशासन को जानकारी भेजा जाएगा।

ज्ञात हो कि बीते करीब 4 दिनों से ग्राम पंचभैया स्थित फोक नदी में अत्याधिक बाढ़ होने के कारण गांव वालों का जनसंपर्क टूट चुका था। इस गांव के एक ही परिवार के छह सदस्यों को शुक्रवार को सुबह बाढ़ में फंसे होने पर सुरक्षित निकाला गया। यहां भी स्थिति भयावह बन चुका है। अभी भी बाढ़ अनियंत्रित गति से बढ़ रही है। ग्राम के सरपंच धनेश चंद्राकर ने बताया कि बाढ़ लगातार चार-पांच दिनों से है। इसकी जानकारी शासन प्रशासन को दी गई मगर अभी तक कोई विशेष ध्यान प्रशासन ने नहीं दिया। विद्युत व्यवस्था बाढ़ के कारण सकरी नदी हाफ नदी एवं फोक नदी किनारे बसे लगभग 25 से अधिक गांवों में बंद है। बाड़ी अंचल के तीनों नदियों में बाढ़ की स्थिति को देखते हुए रात्रि के समय गांव वालों को सतर्क रहने की जरूरत है ताकि नदी में बढ़ रहे जलस्तर से आसपास के गांव के लोग सुरक्षित रह सके।

इन तीनों अलग-अलग नदियों में आई बाढ़ से दाढ़ी अंचल के करीब 50 से अधिक गांव का सड़क संपर्क पूरी तरह से टूट चुका है और दर्जनों गांव टापू बन गए हैं। नदी में लगातार बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए रात्रि के समय संकट बढ़ने की प्रबल संभावना दिखाई दे रही है। विदित रहे कि बाढ़ से प्रभावित गांवों में विद्युत व्यवस्था भी पूरी तरह से ठप हो चुकी है

बाढ़ में फंसे बुजुर्ग को पुलिस ने पहुंचाया राहत शिविर

दाढ़ी पुलिस थाने के आरक्षको के द्वारा सकरी नदी के किनारे बनाये गए प्रधानमंत्री आवास में निवास करने वाले 60 वर्षीय कांग्रेसिया देवार को रेस्क्यू कर निकाला गया। बाढ़ का पानी इनके घर तक पहुंच गया था। कांग्रेसिया देवार एक पैर से अपाहिज है। दाढ़ी पुलिस को पता लगने पर रेस्क्यू टीम पर बाढ़ से घिरे मकानों तक पुलिस और राजस्व विभाग के आमला पहुंचकर नदी में लगातार बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए राहत शिविर में पीड़ितों को पहुंचाने का कार्य किया। इस कार्य में बेमेतरा पुलिस एसडीओपी राजीव शर्मा के नेतृत्व में पुलिस आरक्षकों के द्वारा बाढ़ से प्रभावित हुए परिवारों के सदस्यों को पहुंचाया गया जहां पर जिला प्रशासन के निर्देश पर ग्राम पंचायत के द्वारा अस्थायी भोजन एवं आवास की व्यवस्था की गई है।

आने वाले दिन में वर्षा होने की संभावना

मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में भी वर्षा की संभावना व्यक्त की जा रही है। दाढ़ी अंचल के संकरी नदी, फोक नदी एवं हाफ नदी जो कि अलग-अलग बेमेतरा जिले के सरहदी क्षेत्र में बहती है इसमें अभी बाढ़ की स्थिति है। संकरी नदी में आई बाढ़ से 100 एकड़ से अधिक धान की फसल पूरी तरह से नष्ट हो चुकी है। वहीं दूसरी ओर बाढ़ का पानी दाढ़ी के गोठान के आसपास तथा इंदिरा आवास के सैकड़ों घरों में पहुंच चुका है। बाढ़ को देखते हुए नदी किनारे बसे किसान मजदूर घर खाली करके राहत शिविर में पहुंच चुके हैं । बाढ़ का पानी लगातार बढ़ रहा है। नदी किनारे बसे प्रधानमंत्री आवास के अधिकांश घरों में पानी घुस जाने पर 60 वर्षीय वृद्ध कांग्रेसिया देवार को दाढ़ी पुलिस ने राहत शिविर में पहुंचाया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close