कवर्धा (नईदुनिया न्यूज)। पुलिस विभाग के विशेष पहल से जिले के अति नक्सल प्रभावित क्षेत्र में निवासरत विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा एवं अन्य समाज के लगभग 250 विद्यार्थियो का भविष्य अब रोशन हो रहा है। पहाड़ों और जंगलों के बीच से निकलकर ये बधो शिक्षा के मुख्यधारा से जुड़कर देश का भविष्य बनाने में अहम भूमिका निभाएंगे। नक्सल क्षेत्र के बीच से आए बधाों का जज्बा अब पुलिस, सेना में शामिल होकर देश की सुरक्षा का जुनून झलकता हुए दिखाई पड़ता है।

वहीं उधा शिक्षा प्राप्त कर डाक्टर, इंजीनियर और शिक्षक बनकर अपने देश और समाज के लिए समर्पित होना चाहते है। इन बधाों के उावल भविष्य के लिए पुलिस अधीक्षक डॉ. लाल उमेंद सिंह ने घोर नक्सल प्रभावित वनांचल क्षेत्र संचालित अस्थाई स्कूल के पांचवी उत्तीर्ण बधाों को शहर के विभिन्न स्कूलों, आश्रमों, छात्रावास में दाखिला कराया है। पुलिस अधीक्षक डॉ. सिंह ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय में बधाों की पढ़ाई की सुविधा के लिए स्कूल बैग, किताब, कॉपी, पेन, पेंसिल, जूता, मोजा बधाों को प्रदान किया। इस दौरान जिला पंचायत सीईओ संदीप कुमार अग्रवाल, निरीक्षक (एम) वीरेन्द्र सिंह तारम, स्टोनो युवराज आसटकर एसपी रीडर बेनीराम, प्रधान आरक्षक महेन्द्र चंद्रवंशी, घनाराम सिन्हा उपस्थित थे।

विद्यार्थियों को मुख्यधारा मे जोडना उद्देश्य : डा.सिंह

पुलिस अधीक्षक डा लाल उमेंद सिंह ने द्वारा घोर नक्सल प्रभावित वनांचल क्षेत्र के विभिन्न ग्राम में निवासरत परिवारों के छोटे बालक बालिकाओं को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने के उद्देश्य से कबीरधाम जिले के वनांचल क्षेत्रों में विभिन्ना स्कूल एवं कोचिंग संस्थानों का संचालन कराया जा रहा है। ऐसे बधो जो पढ़ाई से वंचित थे उन्हे पुलिस विभाग द्वारा संचालित स्कूल में दाखिला कराया गया है। यह स्कूल घोर नक्सल प्रभावित वनांचल क्षेत्रों में संचालित की जा रही है जहां पहली से पांचवी तक के लगभग 250 बच्चों शिक्षा से जुड़े हुए है। पुलिस अधीक्षक डा. सिंह ने पांचवी उर्त्तीण लगभग 50 बच्चों के आगे शिक्षा की पढ़ाई के लिए शहर के विभिन्ना स्कूलों, आश्रमों, छात्रावास में दाखिला कराया है। उन्होंने इन विद्यार्थियों की पढ़ाई की सुविधा के लिए पुलिस अधीक्षक कार्यालय में स्कूल बैग, किताब, कॉपी, पेन, पेंसिल, जूता, मोजा बधाों को प्रदान किया।

ओपन परीक्षा का फार्म भी भरवाया जा रहा है

पुलिस अधीक्षक डा लाल उमेंद सिंह ने बताया कि सामुदायिक पुलिसिंग के तहत पुलिस विभाग द्वारा अस्थाई स्कूल ग्राम शौरू, बन्दुकंदा, बगईदाह, तेन्दूपडाव, पंडरीपथरा, मांदीभाठ, झुरगीदादर एवं ओपन कोचिंग सेंटर ग्राम बोदा-3, बो-रखार और कुण्डपानी मे संचालित है। वर्तमान में अस्थाई स्कूल में 250 और ओपन स्कूल कोचिंग सेंटर में 74 विद्यार्थी अध्यनरत है। कबीरधाम पुलिस द्वारा वर्ष 2018 से सामुदायिक पुलिसिंग के तहत अतिनक्सल प्रभावित, वनांचल के गांवों में शिक्षा से वंचित विद्यार्थियों को शिक्षा से जोड़ा जा रहा है। इसके साथ ही पढ़ाई छोड़ चुके विद्यार्थियों को ओपन परीक्षा का फार्म भी भरवाया जा रहा है। वर्ष 2018 से अब तक कबीरधाम पुलिस द्वारा 08 अस्थाई स्कूल कक्षा पहली से पांचवी तक लगभग 700 विद्यार्थियों को शिक्षा के लिए प्रेरित और विशेष बैगा जनजाति के लगभग 100, अन्य समाज के 170 विद्यार्थियों को ओपन परीक्षा का फार्म भरवाकर उनकी आर्थिक मदद कर संपूर्ण खर्च कबीरधाम पुलिस द्वारा उठाया गया । शत-प्रतिशत परिणाम रहा। पुलिस अधीक्षक डॉ. लाल उमेंद सिंह के निर्देशानुसार वनांचल के विद्यार्थियों को कोंचिग और परीक्षा केन्द्र तक पहुंचाने के लिए वाहन का सुविधा भी मुहैया कराया गया था। जिसका सफल परिणाम आज देखने को मिल रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close