भिलाई। फाइनेंस कंपनी के कर्ज तले दबे एक युवक को मदद का झांसा देकर उससे ठगी करने वाले दो शातिरों को नंदिनी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गाड़ी का बीमा करने वाले एक एजेंट ने शिकायतकर्ता से दोनों आरोपितों की मुलाकात कराई थी।

उसने कहा था कि दोनों आरोपित ट्रांसपोर्टर हैं और वे उसकी गाड़ी को चलाकर पूरा किस्त जमा कर देंगे। शिकायतकर्ता को लगा कि दोनों आरोपित उसकी मदद कर सकते हैं। लिहाजा उसने अपनी गाड़ी आरोपितों को सौंप दी। इसके बाद आरोपितों ने उस गाड़ी को किसी और से बेच दिया।

जब फाइनेंस कंपनी ने शिकायतकर्ता के पिता के खाते से किस्त के रुपये कटे तो उसे आरोपितों की करतूत के बारे में पता चला। इसके बाद उसने नंदिनी पुलिस से शिकायत की। शिकायत की जानकारी मिलते ही दोनों आरोपित हैदराबाद भागने वाले थे, लेकिन पुलिस ने गोंदिया क्राइम ब्रांच की मदद से दोनों को गोंदिया रेलवे स्टेशन से ही गिरफ्तार कर लिया।

नंदिनी थाना प्रभारी लक्ष्मण कुमेटी ने बताया कि ग्राम गोढ़ी निवासी शिकायतकर्ता जागेश्वर भारती (22) ने एक मालवाहक खरीदा था। गाड़ी को एक फाइनेंस कंपनी से फाइनेंस करवाया था।

कोरोना संक्रमण के चलते किए गए लाकडाउन में गाड़ी न चलने के कारण शिकायतकर्ता उसकी किस्त जमा नहीं कर सका। इसी दौरान बीमा कंपनी के एजेंट अजीत सिंह ने पोलसाय पारा दुर्ग निवासी आरोपित सतनाम सिंह और उसके सहयोगी दिल्ली निवासी आदित्य कुमार सोना की मुलाकात शिकायतकर्ता से कराई।

बीमा एजेंट ने कहा कि ये दोनों ट्रांसपोर्टर हैं। आरोपितों ने कहा कि वे गाड़ी को मुरमुंदा में चलाकर उसकी गाड़ी का पूरा किस्त जमा कर देंगे। गाड़ी का किस्त जमा होने की बात सुनकर शिकायतकर्ता भी उसके लिए तैयार हो गया। आरोपितों ने सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करवाने के बहाने से एक कोरे कागज पर भी हस्ताक्षर करवा लिया।

उस कागज पर फर्जी बिक्रीनामा तैयार कर उसे किसी और से बेच दिया। गाड़ी ले जाने के बाद भी जब शिकायतकर्ता के पिता जगजीवन भारती के खाते से किस्त के रुपये कटे तो उसने आरोपितों से संपर्क किया। आरोपित की तरफ से कोई जवाब न मिलने पर वो मुरमुंदा गया और ट्रांसपोर्टरों से बात की। वहां पर उसे जानकारी मिली कि आरोपितों ने उसकी गाड़ी को बेच दिया है। इसके बाद उसने नंदिनी थाना में शिकायत की।

कई लोगों से कर चुके हैं धोखाधड़ी

टीआइ लक्ष्मण कुमेटी ने बताया कि आरोपितों ने इसी तरह से कई लोगों से ठगी की है। लेकिन, हर बार वे किसी न किसी तरह से दबाव बनाकर मामले को निपटा लेते थे। इस बार भी जब आरोपितों के खिलाफ शिकायत हुई तो उन्होंने शिकायतकर्ता पर दबाव बनाने की कोशिश की। लेकिन, जब वे कामयाब नहीं हुए और पता चला कि उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने वाली है तो वे लोग भाग गए।

दोनों आरोपित हैदराबाद जाने के लिए निकले। पुलिस के दुर्ग रेलवे स्टेशन पहुंचने के पहले ही वे गाड़ी छूट गई। राजनांदगांव स्टेशन के गाड़ी पार होने के बाद गोंदिया क्राइम ब्रांच की मदद ली गई। आरोपित सतनाम सिंह की एक फोटो की मदद से शनिवार की रात को दोनों आरोपितों को गोंदिया में पकड़ा गया। दोनों आरोपितों के खिलाफ धोखाधड़ी और अमानत में खयानत की धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags