दुर्ग। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को विधानसभा में पुरानी पेंशन बहाली योजना की घोषणा की। जैसे ही घोषणा हुई वैसे ही अब तक सीपीएस के दायरे में रहे सभी अधिकारी कर्मचारियों में उल्लास और उत्सव सी खुशी छा गई।

इस घोषणा से गदगद अधिकारियों-कर्मचारियों ने कलेक्टोरेट परिसर में एक दूसरे को गुलाल लगाकर होली मनाई।

छग अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के पदाधिकारियों ने कलेक्टर डा.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे से भी भेंट कर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के इस निर्णय के प्रति प्रसन्नाता व्यक्त की।

फेडरेशन ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार भी जताया। फेडरेशन के प्रांतीय सचिव राजेश चटर्जी ने कहा कि अभी होली में कुछ दिन बाकी हैं पर सरकार के इस निर्णय से होली जैसा उत्साह अभी ही आ गया। दुर्ग जिला राजपत्रित अधिकारी संघ के अध्यक्ष विपिन जैन ने कहा कि यह बहुत स्वागत योग्य निर्णय है।

छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी संघ के दुर्ग के संयोजक विजय लहरे ने भी इस निर्णय का स्वागत किया है।

एडीएम न्यायालय में कार्य कर रही ऐश्वर्या ने बताया कि वह इस निर्णय से बहुत खुश हैं शासन की पुरानी पेंशन योजना में एकमुश्त राशि आने से लोगों को सेवानिवृत्ति के पश्चात चिंता नहीं होती क्योंकि पुरानी पेंशन का निर्धारण इसी दृष्टि से किया गया था कि पेंशन की राशि में किसी तरह का उतार-चढ़ाव ना हो सके।

स्वेच्छानुदान शाखा में कार्य कर रहे राम गोपाल साहू ने कहा कि सीपीएस में जो राशि पेंशन के रूप में प्राप्त होती है वह सेवा काल की अवधि पर निर्भर होती है। पुरानी पेंशन बहाल हो जाने से अब यह दि-त दूर हो जाएगी।

संयुक्त कलेक्टर मुकेश रावटे ने भी इस निर्णय की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि हम मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त करते हैं पुरानी पेंशन बहाली से सभी अधिकारी कर्मचारियों की चिंता दूर हुई है।

टीचर्स एसोसिएशन ने मनाया जश्न

पुरानी पेंशन योजना को बहाल करने के फैसले के बाद छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन जिला दुर्ग के पदाधिकारियों ने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय दुर्ग के पास एकत्र होकर बड़े उत्साह के साथ मिठाई खिलाकर, पटाखे फोड़ कर एवं एक दूसरे को गुलाल लगाकर जश्न मनाया।

शिक्षकों का उत्साह देख कर लग रहा था मानो होली का त्यौहार एक सप्ताह पहले ही आ गया हो। एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। इस दौरान जिलाध्यक्ष शत्रुघन साहू , ब्लाक अध्यक्ष किशन देशमुख, महामंत्री ओमप्रकाश पांडे, ब्लाक सचिव महेश चंद्राकर थे।

---

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close