भिलाई। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बदलते ही भिलाई भाजपा की राजनीतिक फिजा भी बदलती नजर आ रही है। भिलाई में भाजपा के दूसरे गुट में अचानक सक्रियता व हलचल बढ़ गई है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के स्वागत में शनिवार को बड़ी संख्या में भिलाई भाजपा के लोग पहुंचे थे। इसमें से भिलाई जिला भाजपा अध्यक्ष के दावेदार भी बड़ी संख्या में थे। जिन्होंने अपनी दावेदारी अभी से ठोक रहे है।

बता दें कि वर्तमान प्रदेश भाजपा प्रदेश को किसी भी गुट का नहीं माना जाता। इसलिए भिलाई भाजपा में गुटीय राजनीति से दूर रहने वाले भाजपा नेताओं को उम्मीद जाग गई है।

इशारा यह भी मिल रहा है कि इस बार भिलाई जिला भाजपा अध्यक्ष कोई ऐसा व्यक्ति बन सकता है। जिसका किसी भी गुट से कोई लेना देना न हो। यानी एक तरह से भिलाई के लिए निर्गुट अध्यक्ष की तलाश रहेगी। जो संघ से संबंध रखता हो।

खबर है कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के रायपुर आगमन के दौरान भिलाई जिला भाजपा से चुनिंदा सात लोगों को अलग से बुलाया गया था। प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव से इन सात लोगों की अलग से भेंट मुलाकात कराई गई। इस भेंट मुलाकात के बाद से जो संकेत मिल रहे है। वह भिलाई भाजपा की बदलती तस्वीर की तरफ इशारा कर रहा है।

सरोज समर्थक है वर्तमान अध्यक्ष

भिलाई जिला भाजपा के वर्तमान अध्यक्ष वीरेंद्र साहू राज्यसभा सदस्य सरोज पाण्डेय के समर्थक है। दो साल पूर्व जिला अध्यक्ष पद पर उनकी नियुक्ति हुई। भिलाई जिला भाजपा अध्यक्ष व दस मंडलों के अध्यक्ष बनने को लेकर भी भिलाई में जमकर बवाल हुआ था।

बूथ व मंडल अध्यक्ष को सदस्य बनाए जाने को लेकर फर्जीवाडे का आरोप लगाते हुए सांसद विजय बघेल, पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने मोर्चा खोल दिया था। लिहाजा प्रदेश संगठन को स्थगन आदेश देना पड़ा था। हालांकि, बाद में प्रदेश संगठन ने स्थगन हटाते हुए सभी मंडल अध्यक्षों को यथावत रखा था।

वहीं गुटीय संतुलन बनाने के प्रयास में राज्यसभा सांसद सरोज पाण्डेय खेमे से अध्यक्ष व एक महामंत्री तथा वैशाली नगर विधायक विद्यारतन भसीन समर्थक शंकर लाल देवांगन को महामंत्री नियुक्त किया गया था। हालांकि जिला कार्यकारिणी में सरोज समर्थकों को ही स्थान दिया गया।

निर्गुट या संघ बैकग्राउंड का होगा चेहरा

ऐसा संकेत मिल रहा है कि भिलाई भाजपा में गुटीय संतुलन बनाने के लिए इस बार निर्गुट भाजपा कार्यकर्ता को अध्यक्ष बनाया जा सकता है। बताया जा रहा है कि संगठन इस बार संघ बैकग्राउंड से जुड़े कार्यकर्ता को प्राथमिकता दे सकता है। जो नाम फिलहाल चर्चे में है उनमें बुद्धन ठाकुर, शिरीष अग्रवाल, योगेंद्र सिंह, शंकर लाल देवांगन, भागचंद जैन, राम उपकार तिवारी, श्याम सुंदर राव का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है।

कहा जा रहा है कि प्रदेश भाजपा को सबसे ज्यादा मंथन भिलाई जिला को लेकर करनी पड़ सकती है। बहरहाल इन नामों की चर्चा भिलाई भाजपा में शुरू हो चुकी है।

---

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close