भिलाई। रिसाली निगम में शहर सरकार बनते ही 68 लाख घोटाले का जिन्ना बाहर आने लगा है। 2010 में डुंडेरा तालाब के गहरीकरण व सुंदरीकरण के नाम पर 68 लाख का घोटाला हुआ था।

2018 में भिलाई निगम के तत्कालीन महापौर की मांग पर नगरीय प्रशासन विकास विभाग ने इसकी जांच के लिए निगम आयुक्त को कहा था, पर जांच के नाम पर भी खेल हो गया। रिसाली निगम जोन कार्यालय से इस मामले की फाइल ही गायब हो गई।

पता चला कि 68 लाख का पूरा भुगतान ठेकेदार को कर दिया गया था। काम सिर्फ 10 लाख रुपये का हुआ था। अब इसकी जांच की मांग फिर से उठने लगी है। डुंडेरा तालाब घोटाले की जांच अब रिसाली निगम करेगा। रिसाली के कांग्रेसी नेताओं ने इसकी मांग तेज कर दी है।

ऐसे सामने आया था मामला

दरअसल मामला सामने तब आया जब 2018 में भिलाई निगम के तत्कालीन महापौर देवेंद्र यादव ने वार्डों की परिक्रमा शुरू की थी। इस दौरान वे डुंडेरा गए थे। जहां ग्रामीणों ने तालाब की दशा दिखाई। बताया कि तालाब को गहरीकरण व सुंदरीकरण के नाम पर बर्बाद कर दिया गया। ठेकेदार ने आधा काम करके छोड़ दिया। महापौर देवेंद्र यादव ने तत्काल नगरीय प्रशासन विभाग को इसकी जानकारी दी। वहां से तत्कालीन आयुक्त केएल चौहान को निर्देशित किया गया कि मामले की जांच कर विस्तृत रिपोर्ट सौंपी जाए।

शुरू नहीं हो पाई जांच

इसे लेकर तत्कालीन रिसाली जोन के पार्षद भी मुखर हुए। जोन अध्यक्ष भूपेश ठाकुर, केशव बंछोर, नरेश कोठारी सहित सभी नौ पार्षदों ने अपने स्तर पर इसकी जांच कर भिलाई निगम आयुक्त व रिसाली जोन आयुक्त को ज्ञापन सौंपा। गंभीर मामले के बावजूद भिलाई निगम के तत्कालीन आयुक्त केएल चौहान ने इसकी जांच नहीं कराई।

वह कहते रहे कि जांच अधिकारी सत्येंद्र सिंह को नियुक्त किया गया है। उन्हें लिखित में इसकी जिम्मेदारी दी गई है। सत्येंद्र सिंह कहते रहे कि न तो उन्हें जांच करने कहा गया है और न ही कोई लिखित आदेश मिला है। इस बीच केएल चौहान का तबादला हो गया और मामला ठंडे बस्ते में चला गया। और कार्यपालन अभियंता सत्येंद्र सिंह भी सेवानिवृत हो गए।

ये था मामला

डुंडेरा तालाब के गहरीकरण व सुंदरीकरण के लिए 68 लाख रुपये का टेंडर निकला था। शुरुआती कुछ दिन काम होने के बाद काम बंद कर दिया गया। कांग्रेस पार्षदों का आरोप था कि ठेका एजेंसी ने मात्र दस लाख रुपये का काम किया और 68 लाख रुपये का पूरा भुगतान ले लिया। इसमें रिसाली जोन के भी तत्कालीन अधिकारियों का नाम भी सामने आया था।

अब रिसाली निगम करेगा जांच

रिसाली निगम में कांग्रेस की शहर सरकार बन चुकी है। अब फिर डुंडेरा तालाब घोटाले की जांच की मांग शुरू हो गई है। रिसाली निगम के सभापति केशव बंछोर ने रिसाली निगम आयुक्त से डुंडेरा तालाब घोटाले की जांच के लिए कहा है।

--

-डुंडेरा तालाब घोटाले की जांच के लिए कहा गया है। निगम की टीम द्वारा जल्द जांच शुरू की जाएगी।

- केशव बंछोर, सभापति, नगर निगम रिसाली

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local