दुर्ग(वि.)। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग नई दिल्ली की महत्वाकांक्षी योजना परामर्श में छत्तीसगढ़ प्रदेश से एकमात्र महाविद्यालय शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय दुर्ग का चयन हुआ है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग नई दिल्ली द्वारा परामर्श योजना के अंतर्गत समूचे देश के 167 चुनिंदा शैक्षणिक संस्थानों का चयन किया गया है। राष्ट्रीय स्तर पर साइंस कॉलेज दुर्ग को इस सूची में 13 वें नंबर पर स्थान प्राप्त है।

साइंस कॉलेज दुर्ग के प्राचार्य डॉ.आरएन सिंह बताया कि साइंस कॉलेज दुर्ग की राष्ट्रीय स्तर पर उल्लेखनीय उपलब्धि है। इस परामर्श योजना के अंतर्गत साइंस कॉलेज दुर्ग द्वारा दुर्ग जिले के पांच महाविद्यालयों को नैक मूल्यांकन के लिए प्रेरित करने के साथ-साथ नैक मूल्यांकन को आवश्यक समस्त जानकारियां भी साइंस कॉलेज दुर्ग के प्राध्यापक उपलब्ध करायेंगे। प्रारंभिक तैयारी से लेकर नैक मूल्यांकन हेतु आने वाली विशेषज्ञों की टीम द्वारा भौतिक निरीक्षण तक यह सहायता का केंपैन जारी रहेगा। इस कार्य के लिए यूजीसी द्वारा साइंस कॉलेज दुर्ग को वांछित राशि भी प्रदान की जायेगी।

इन पांच महाविद्यालयों को दिया जाएगा परामर्श

महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ.प्रशांत श्रीवास्तव ने बताया कि परामर्श योजना के तहत जिन पांच महाविद्यालयों को साइंस कॉलेज दुर्ग द्वारा नैक मूल्यांकन के लिए परामर्श दिया जायेगा, उनमें शासकीय कन्या महाविद्यालय दुर्ग, शासकीय खूबचंद बघेल पीजी कालेज, भिलाई-3, शंकराचार्य महाविद्यालय, जुनवानी भिलाई, स्वामी स्वरूपानंद महाविद्यालय, भिलाई तथा भिलाई महिला महाविद्यालय, भिलाई को प्रारंभिक चरण में शामिल किया गया है। उक्त परामर्श योजना के सफल क्रियान्वयन करने साइंस कॉलेज दुर्ग के आईक्यूएसी प्रभारी डॉ.जगजीत कौर सलूजा को दायित्व सौंपा गया है। इस योजना की समन्वयक यूजीसी सेल प्रभारी डॉ. अनुपमा अस्थाना होंगी तथा यूजीसी के नियमानुसार एक्रीडिटेशन एम्बेसेडर का दायित्व भूगर्भद्याास्त्र के सहायक प्राध्यापक एवं आईक्यूएसी सदस्य डॉ.प्रशांत श्रीवास्तव संभालेंगे।

इस संदर्भ में साइंस कॉलेज दुर्ग में यूजीसी के निर्देशानुसार स्टैण्डिंग कमेटी भी गठित की गई है, जिसके सदस्य डॉ.ओपी गुप्ता, डॉ. सोमाली गुप्ता, डॉ. पद्मावती, डॉ. अनिल कुमार, डॉ. अजय सिंह, डॉ. जय प्रकाश साव, डॉ.जीएस ठाकुर, डॉ.एसडी देशमुख,डॉ.के.पद्मावती तथा डॉ. अनिल पाण्डेय मनोनीत किए गए है।

---