भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि

यात्री ट्रेन पर पथराव करने वाले अज्ञात आरोपियों की तलाश में बुधवार को जीआरपी व आरपीएफ के जवान सादे ड्रेस में ट्रैक के आसपास खाक छानते रहे। सुबह से देर शाम तक भिलाई-3 से लेकर पावर हाउस क्रॉसिंग तक टीम को कोई भी संदिग्ध नहीं मिला। इस दौरान आसपास की बस्तियों में भी पूछताछ की गई। इधर पथराव में घायल छात्रा की सहेली का बयान जीआरपी ने लिया।

उल्लेखनीय है कि चलती ट्रेन में पथराव से कैंप-दो निवासी पॉलीटेक्निक छात्रा वैशाली देवांगन बीते 11 अक्टूबर को सफर के दौरान पथराव का शिकार हो गई। पॉलीटेक्निक छात्रा वैशाली देवांगन बिलासपुर-नागपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस से रायपुर से पावर हाउस लौट रही थी। वह ट्रेन के सबसे पीछे वाली बोगी जो महिलाओं के लिए आरक्षित थी उसके गेट पर खड़ी थी। इस दौरान भिलाई-3 और खुर्सीपार के बीच अज्ञात बदमाशों ने ट्रेन के गेट के पास खड़े यात्रियों पर अचानक पथराव कर दिया। हादसे में छात्रा की एक आंख पर चोट लगी। उसे दुर्ग जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां उसकी स्थिति को देखते हुए एम्स रायपुर रेफर कर दिया गया। जहां उसकी एक आंख निकालनी पड़ गई। छात्रा फिलहाल एम्स अस्पताल रायपुर में भर्ती है।

इस घटना के बाद शासकीय रेल पुलिस (जीआरपी) एवं आरपीआफ हरकत में आई। बुधवार को आरोपितों की तलाश में भिलाई-3 से लेकर पावर हाउस तक पटरी के किनारे और समीप के बस्ती में सादे ड्रेस में जवान लगे रहे। इस दौरान उन्होंने ट्रैक के आसपास बैठकर नशाखोरी करने वाले बदमाशों के संबंध में भी जानकारी ली। रेलवे का मानना है कि खुर्सीपार रेलवे क्रॉसिंग के आगे तेलहा नाला के आसपास यह घटना हुई है। तेलहा नाला और डबरापारा के आसपास पूर्व में भी ट्रेन पर पथराव जैसी घटना हुई थी।

छात्रा को दिया जाए मुआवजा

दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे रायपुर मंडल के पूर्व संभागीय रेल्वे उपभोक्ता सलाहकार समिति सदस्य उमाशंकर राव ने रेल अधिकारियों से मांग की है कि पत्थरबाजी से पीड़ित पॉलीटेक्निक छात्रा वैशाली को तत्काल मुवावजा व सहयोग उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने रेलवे द्वारा निःशुल्क चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की भी मांग की।

Posted By: Nai Dunia News Network